DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मचारियों के चिह्नीकरण को शिविर लगा

कर्मचारियों के चिह्नीकरण को शिविर लगा

हाथ से मैला ढोने वालों के चिह्निकरण के लिए दो दिन का शिविर शुरू हुआ। शिविर प्रभारी ने बताया कि इस दौरान हाथ से मैला ढोने वालों के फार्म भरवाए जाएंगे। सर्वेक्षण कार्य पूरा होने के बाद उन्हें चालीस हजार की अनुदान राशि दी जाएगी। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने हाथ से मैला उठाने वाले कर्मियों के पुनर्वास का कार्य शुरू किया है। इसके तहत हाथ से मैला ढोने वाले कर्मचारियों का सर्वेक्षण चल रहा है। सर्वेक्षण के बाद आवेदन करने वाले व्यक्तियों को पुनर्वास के लिए 40 हजार की मदद सरकार की ओर से दी जा रही है।अंबर तालाब स्थित वाल्मीकि धर्मशाला में हाथ से मैला ढोने वाले कर्मचारियों के चिह्निकरण के लिए शिविर लगाया गया। शिविर के प्रभारी अमर बेनीवाल ने बताया कि यह शिविर गुरुवार को को भी लगाया जाएगा। शिविर में पहुंचने वाले कर्मचारियों का फार्म भराया जाएगा। इसके बाद ही कर्मचारियों को चालीस हजार की अनुदान राशि दी जाएगी। इस दौरान सहायक समाज कल्याण अधिकारी प्रकाश थपलियाल, कुंदन सिंह रावत, सफाई निरीक्षक मृदुल कुमार, सफाई निरीक्षक अमित कुमार मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Camps for marking workers