DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रविदास मंदिर तोड़े जाने के विरोध में भीम आर्मी का प्रदर्शन

रविदास मंदिर तोड़े जाने के विरोध में भीम आर्मी का प्रदर्शन

दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास का मंदिर तोड़े जाने का विरोध रुड़की आ पहुंचा है। भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने मालवीय चौक पर प्रदर्शन कर तहसील तक जुलूस निकाला। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा गया। भीम आर्मी के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस और पीएसी तैनात की गई थी।रुड़की के मालवीय चौक भीम आर्मी कार्यकर्ता एकत्रित हुए और प्रदेश अध्यक्ष महक सिंह के नेतृत्व में दिल्ली में संत रविदास का मंदिर तोड़े जाने का विरोध जताते हुए केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। भीम आर्मी के जिला प्रवक्ता दीपक ने कहा कि भाजपा सरकार दलित विरोधी है। सरकार की जो मंशा और नीति है अगर उसमें बदलाव नहीं किया गया तो भीम आर्मी कार्यकर्ता सड़कों पर उतर कर बड़ा जन आंदोलन करेंगे। मालवीय चौक से भीम आर्मी कार्यकर्ता जुलूस निकालकर तहसील पहुंचे और यहां भी प्रदर्शन किया। इसके बाद राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल को सौंपा। भीम आर्मी के विरोध प्रदर्शन को लेकर पुलिस और प्रशासन सतर्क रहा। पुलिस बल के साथ ही पीएसी को भी तैनात किया गया। विरोध प्रदर्शन करने वालों में मुनि लाल शिंदे, विकास कुमार, अमरीश कपिल, मनजीत, मिथुन, प्रमोद महाजन, राजेन्द्र लांबा, सोनू, मदन, राजेन्द्र लांबा, सत्यम,राजेश, रॉबिन, सौरभ, प्रवीण, सुशील पाटिल, नवाब, बिल्लू, रोहित, आशीष आदि मौजूद रहे।000हाईवे पर किया रूट डायवर्टभीम आर्मी के जुलूस प्रदर्शन के दौरान जाम की स्थिति बनी रही। गंगनहर कोतवाली क्षेत्र के मालवीय चौक पर एकत्र होने के बाद कार्यकर्ता पैदल दिल्ली हाईवे स्थित तहसील में पहुंचे। इस दौरान हाईवे पर जाम लग गया। गोल चौक से बस अड्डे तक जाम लगने के बाद पुलिस ने रूट डायवर्ट कर दिया। दिल्ली से आने वाली बसों और अन्य वाहनों को सीधे न भेजकर एसडीएम चौक से जादूगर रोड होते हुए हरिद्वार की ओर भेजा गया। भीम आर्मी का जुलूस तहसील में जाने के बाद वाहनों को सीधे भेजा गया। इस दौरान एसडीएम चौक से जादूगर रोड जाने वाली सड़क पर भी जाम लगा रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhim army protest against the demolition of Ravidas temple