DA Image
2 जुलाई, 2020|1:59|IST

अगली स्टोरी

रुड़की में बीस बसों के परमिट सरेंडर किए

default image

लॉकडाउन के बाद अनलॉक वन शुरू होने के बाद भी वाहनों को सवारी नहीं मिलने के कारण वाहन स्वामियों ने वाहनों के परमिटों को सरेंडर करना शुरू कर दिया है। एआरटीओ प्रवर्तन ने बताया कि अभी तक 20 बसों के परमिट सरेंडर हो चुके हैं।

कोरोना वायरस के चलते 22 मार्च से परिवहन सेवाएं, स्कूल कॉलेज, उद्योग धंधों को बंद किया गया था। अनलॉक वन शुरू होने के बाद बसों के संचालन की अनुमति दी गई है। क्षमता से पचास प्रतिशत सवारी और 67 प्रतिशत किराये में बढ़ोतरी के साथ संचालन की मंजूरी दे दी गई है। रोडवेज की बसों का संचालन गुरुवार से शुरू हो गया था। उसके बाद शुक्रवार को निजी बस ऑपरेटरों ने भी बसों का संचालन किया। रोडवेज से लेकर निजी ऑपरेटरों तक को सवारी नहीं मिल रही है। निजी ऑपरेटरों ने दिन संचालन के बाद सेवा को बंद कर दिया था। रूटों पर सवारी नहीं मिल रही। रुड़की से प्राइवेट बसें हरिद्वार और लक्सर रूट पर चलती है। लेकिन सवारियां नहीं मिल रही है। डीजल का खर्चा लगातार बढ़ रहा है। इसके साथ ही टैक्स, बीमा आदि भी संचालन करने पर देना होता है। इसे देखते हुए बस ऑपरेटरों ने बसों के परमिट सरेंडर करने शुरू कर दिए हैं। आने वाले समय में भी उन्हें संचालन पटरी पर आने की उम्मीद नजर नहीं आ रही है। इसलिए बसों के परमिट सरेंडर किए जा रहे हैं। एआरटीओ प्रवर्तन ज्योतिशंकर मिश्रा ने बताया कि 20 बसों के परमिटों को सरेंडर किया गया है।

000

आज से बढ़ेगा माल भाड़ा

बुधवार से ट्रकों का माल भाड़ा बढ़ जाएगा। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के प्रदेश महासचिव आदेश सैनी सम्राट ने बताया कि एक जुलाई से माल भाड़ा बढ़ाया जाएगा। बताया कि एक तारीख से ही कांट्रेक्ट रिन्यूवल होता है। बताया कि डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी के कारण माल भाड़ा बढ़ाया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:20 bus permits surrendered in Roorkee