DA Image
24 नवंबर, 2020|11:25|IST

अगली स्टोरी

स्वयंसेविकाओं ने महिलाओं को जागरूक करने का संकल्प लिया

default image

ऋषिकेश। हमारे संवाददाता

एम्स ऋषिकेश में महिलाओं के गुप्त रोगों से जुड़ी जटिल समस्याओं को लेकर सम्मेलन का आयोजन किया गया। संस्थान के रिकंस्ट्रक्टिव एंड कॉस्मेटिक गाइनोकॉलोजी विभाग ने स्त्री वरदान, चुप्पी तोड़ो नारीत्व से नाता जोड़ो कार्यक्रम की शुरुआत की। इस दौरान स्वयं सेविकाओं ने स्त्री रोगों के इलाज के लिए महिलाओं को प्रेरित करने का संकल्प लिया।

शनिवार देर शाम एम्स ऋषिकेश के रिकंस्ट्रक्शन एंड कॉस्मेटिक गाइनोकॉलोजी विभाग की पहल पर आयोजित सम्मेलन में राज्य के विभिन्न जिलों से 50 से ​अधिक स्वयंसेविका महिलाओं ने प्रतिभाग किया। एम्स निदेशक प्रोफेसर रविकांत ने बताया कि यह सम्मेलन महिलाओं के गुप्त रोगों से जुड़ी समस्याओं के निदान की दिशा में पहला कदम है, इसका उद्देश्य भारत की हर महिला को ऐसी समस्याओं को लेकर जागरुक करना है। साथ ही उन महिलाओं तक पहुंचकर एम्स ऋषिकेश की सुपरस्पेशलिटी सेवाओं से उन्हें स्वास्थ्य लाभ दिलवाना है। कार्यक्रम में रिकंस्ट्रक्टिव और कॉस्मेटिक गाइनोकॉलोजी विभागाध्यक्ष डॉ. नवनीत मग्गो ने आह्वान किया कि हमें इस मुहिम में उन महिलाओं से बात करनी है, जो महिलाएं या तो संकोच के मारे बात नहीं कर पातीं या फिर समाज उन महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को नजरअंदाज कर देता है। डा. नवनीत ने प्रतिभागी सेविकाओं को स्त्री रोगों से जुड़ी कई जानकारियां दीं। मौके पर डा. मानवी, डा. नीतिश्री, राष्ट्रीय प्रांत कार्यवाहिनी भावना त्यागी, सेवा भारती मात्रिमंडल की प्रांत संयोजिका सुनीता भट्ट, क्षेत्रीय संयोजिका रीता गोयल, अनुराधा सिंह, भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सुधा गुप्ता आदि मौजूद थे।

फोटो कैप्शन 02 आरएसके 11 महिलाओं को उपचार के प्रति प्रेरित करने का संकल्प लेती स्वयंसेविकाएं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Volunteers pledge to make women aware