DA Image
30 नवंबर, 2020|12:49|IST

अगली स्टोरी

हंस फाउंडेशन ने एम्स को दिया सचल चिकित्सा वाहन

हंस फाउंडेशन ने एम्स को दिया सचल चिकित्सा वाहन

हंस फाउंडेशन की माता मंगला ने कहा कि उत्तराखण्ड में शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधा बेहतर करने की जरूरत है। हंस कल्चरल फाउंडेशन इस दिशा में प्रयासरत है। एम्स में मरीजों के तीमारदारों की सुविधा को रैन बसेरा बनाया जाएगा। एम्स सभागार में आयोजित कार्यक्रम में हंस फाउंडेशन की माता मंगला ने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधा बेहतर करने की जरूरत है। करीब 22 राज्यों में हंस फाउंडेशन इस क्षेत्र में कार्य कर रहा है। उत्तराखण्ड में शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में राज्य के लोगों की मदद की जा रही है। राज्य के अधिकांश गांवों में स्वास्थ्य कैंप लगाये जा रहे है। देश के चुनिंदा अस्पतालों में इलाज की खर्च भी संस्था उठा रही है। कहा कि एम्स खुलने से राज्य के लोगों को काफी हद तक राहत मिली है। एम्स प्रशासन जो भी सहयोग चाहेगा संस्था देगी। उन्होंने एम्स में मरीजों के तीमारदारों के लिये रैन बसेरा बनाने की बात कही। लेकिन इसके लिये एम्स प्रशासन उन्हें भूमि उपलब्ध करायेगा। निदेशक एम्स प्रोफेसर डा. रविकांत ने कहा कि एम्स में गरीब एवं असहाय का इलाज फ्री हो रहा है। हंस फाउंडेशन ने एम्स को आधुनिक सचल चिकित्सा वाहन भेंट किया। माता मंगला एवं भोले महाराज ने वाहन की चाबी एम्स निदेशक को सौंपी। करीब 23 लाख की लागत से निर्मित वाहन में अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध है। इस अवसर पर उप निदेशक एम्स अशुंमान गुप्ता, डीन डा.सुरेखा किशोर, चिकित्सा अधीक्षक डा.मुकेश त्रिपाठी, डा.आरबी कालिया, डा.बलराम, डा.सतीश रवि, एम्स पीआरओ हरीश थपलियाल, पालिकाध्यक्ष ऋषिकेश दीप शर्मा, पालिकाध्यक्ष मुनिकीरेती शिवमूर्ति कंडवाल, उद्यमी वचन पोखरियाल, हंस फाउंडेशन के प्रभारी प्रदीप राणा, पदमेन्द्र सिंह बिष्ट, चंदन सिंह भण्डारी, सतपाल नेगी, देवेन्द्र नेगी, दिनेश कंडारी, सुशीला बिष्ट, रमा बिष्ट, रमेश उनियाल, नरेन्द्रनगर अध्यक्ष दुर्गा राणा, राजेन्द्र राणा, कविता शाह, रीना शर्मा थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: The hans Foundation has given the Medical Vehicle