DA Image
29 मार्च, 2020|2:38|IST

अगली स्टोरी

जाम के झाम से कराह उठा शहर

जाम के झाम से कराह उठा शहर

शिवरात्रि पर गाड़ियों का दबाव बढने से लगा जाम

हरिद्वार से तपोवन के बीच रेंग-रेंग कर चली गाड़ियां

शुक्रवार को गाड़ियों की भीड़ से यात्री जाम में फंसे रहे। रायवाला से तपोवन के बीच दिनभर जाम लगता रहा। बाजार में शिवभक्तों की गाड़ियां घुसने से ट्रैफिक सिस्टम पूरी तरह गड़बड़ा गया। गाड़ियों के दबाव के आगे पुलिस लाचार दिखी। बड़ी गाड़ियां चीला बैराज से हरिद्वार भेजने के बाद कुछ राहत मिली।

शिवरात्रि पर्व के चलते नीलकंठ महादेव में जलाभिषेक को बड़ी संख्या में शिवभक्तों की भीड़ उमड़ी। इससे पूरा ट्रैफिक सिस्टम गड़बड़ा गया। ऋषिकेश-हरिद्वार मार्ग पर गाड़ियों का सबसे अधिक दबाव रहा। इससे हरिपुर कला से नीलकंठ के बीच दिनभर जाम लगा रहा। हाईवे के किनारे दोनों ओर खड़ी गाड़ियां भी मुसीबत बनी रहीं। जबकि रामझूला के पास विक्रम व ऑटो के बेतरतीब खड़े होने से जाम लगा रहा।

दोपहर के समय बाजार में ऑटो-विक्रम घुसने से पैदल चलना तक दूभर हो गया। मोतीचूर रेलवे फाटक व श्यामपुर रेलवे फाटक पर आगे निकलने की होड़ में वाहन चालकों के आड़े-तिरछे वाहन लगाने से जाम लगा। इस जाम से निपटने को देहरादून से हरिद्वार जाने वाले भारी वाहनों को नेपाली फार्म से आईडीपीएल बैराज-चीला मार्ग से भेजा गया। नेपाली फार्म व रायवाला बाजार में ट्रक खराब होने से मुसीबत बढ़ी। ट्रक हटाने के बाद यातायात सामान्य हो पाया। वाहनों का दबाव बढ़ने पर रामझूला, लक्ष्मणझूला में भी जाम से लोग परेशान रहे। शाम के समय गाड़ियों का दबाव कम होने पर शहरवासियों को राहत मिली। सीओ ऋषिकेश वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि शिवरात्रि पर्व के चलते यात्रियों का दबाव रहा। जिस पर बड़ी गाड़ियां चीला बैराज से भेजी गई। सुबह के समय पैदल शिवभक्तों को भी बैराज से नीलकंठ भेजा गया।

घंटेभर बाधित रहा नीलकंठ मोटरमार्ग

ऋषिकेश। सुबह दस बजे गाड़ियों का दबाव बढ़ने से नीलकंठ मोटरमार्ग पर यातायात थम गया। संकरे मार्ग पर गाड़ियों की भीड़ आने से दिक्कत रही। इससे लक्ष्मणझूला, रामझूला में भी लोग जाम से परेशान रहे। करीब एक घंटे बाद गाड़ियां ब्रह्मपुरी से भेजने पर यातायात सामान्य हो पाया।

इन स्थानों पर जाम में फंसे यात्री

रायवाला अंडर ब्रिज, नेपाली फार्म, कोयलघाटी, पुरानी चुंगी, तिलक मार्ग, दून तिराहा, घाट चौक, चन्द्रभागा पुल, कैलाश गेट, रामझूला, तपोवन, ब्रह्मपुरी, शिवपुरी,लक्ष्मणझूला,घट्टूघाट,नीलकंठ।