DA Image
27 फरवरी, 2020|12:57|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूली बच्चों ने दिया बालिका शिक्षा का संदेश

default image

भानियावाला स्थित निशुल्क शिक्षण संस्थान पेन-इंडिया स्कूल में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। विभिन्न स्लोगन के माध्यम से बालिका शिक्षा के महत्व को बताया गया।गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम में बच्चों ने शिक्षित बेटी, सशक्त भारत, बेटी है तो कल है समेत कई स्लोगन व रैली से बालिका शिक्षा को लेकर जागरुक किया। पेन-इंडिया फाउंडेशन के संस्थापक व अध्यक्ष अनूप रावत ने कहा कि 24 जनवरी के दिन इंदिरा गांधी को नारी शक्ति के रूप में याद किया जाता है। इस दिन इंदिरा गांधी पहली बार प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठी थी। इसीलिए इस दिन को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 20 से 24 साल की शादीशुदा महिलाओं में से 44.5 प्रतिशत करीब आधी महिलाएं ऐसी हैं, जिनकी शादियां 18 साल से पहले हुई हैं। इन 20 से 24 साल की शादीशुदा महिलाओं में 22 प्रतिशत करीब एक चौथाई महिलाएं ऐसी हैं, जो 18 साल से पहले मां बनी हैं। पेन-इंडिया फाउंडेशन के सह संस्थापक संतोष बुड़ोकाटी ने कहा कि शिक्षित समाज के निर्माण की कल्पना बेटियों को शिक्षित किए बिना नहीं की जा सकती। हर बेटी शिक्षित हो सके, यह जिम्मेदारी समाज के हर वर्ग की है। इसके लिए सभी को मिलकर काम करना चाहिए। इस दौरान वॉलंटियर शिक्षिका ऋतु शर्मा व दीपालिका नेगी मौजूद रहीं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:school girls awareness programme start