ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड ऋषिकेशशोधपत्रों की गुणवत्ता पर ध्यान दें शोधार्थीः डॉ. राजेन्द्र डोभाल

शोधपत्रों की गुणवत्ता पर ध्यान दें शोधार्थीः डॉ. राजेन्द्र डोभाल

एसआरएचयू के लाइब्रेरी सिस्टम में शनिवार को स्कोपस एक उद्धरण उपकरण और अनुसंधान मूल्यांकन सूचकांक पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन...

शोधपत्रों की गुणवत्ता पर ध्यान दें शोधार्थीः डॉ. राजेन्द्र डोभाल
default image
हिन्दुस्तान टीम,रिषिकेषSat, 15 Jun 2024 04:45 PM
ऐप पर पढ़ें

एसआरएचयू के लाइब्रेरी सिस्टम में शनिवार को स्कोपस एक उद्धरण उपकरण और अनुसंधान मूल्यांकन सूचकांक पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया, जिसमें वक्ताओं ने नए शोधकर्ताओं को शोधपत्रों की गुणवत्ता पर ध्यान देने पर जोर दिया।
कार्यशाला का शुभारंभ कुलपति डॉ. राजेन्द्र डोभाल ने किया। उन्होंने कहा कि कुछ दशकों पूर्व अंतरराष्ट्रीय जर्नल्स में पश्चिमी शोधकर्ताओं का ज्यादा प्रभाव था, जिसके कारण पूर्व के देशों से आ रहे गुणवत्तापरक शोधपत्रों को उनका उचित स्थान नहीं मिल पाता था। भारत और अन्य देशों के शोधकर्ताओं के प्रयासों से आज विकासशील देशों के विद्वानों के शोधपत्र प्रतिष्ठित जर्नल्स में प्रकाशित हो रहे हैं। उन्होंने नए शोधकर्ताओं को शोधपत्रों की गुणवत्ता पर ध्यान देने की बात कही। महानिदेशक शैक्षणिक विकास डॉ. विजेंद्र चौहान ने बताया की कैसे सन 1994 से आज तक एसआरएचयू की लाइब्रेरी अपने वर्तमान स्वरूप में पहुंच पाई है। आज 36000 से अधिक किताबों, देश विदेश के विख्यात जर्नल्स और डिजिटल पहुंच जैसे समृद्ध संसाधनों के साथ लाइब्रेरी एक मिसाल के तौर पर स्थापित हो गयी है। प्रो. योगेन्द्र सिंह ने स्कोपस के विभिन्न पहलुओं जैसे खोज तकनीकों की मूल बातें बताईं। उन्होंने जर्नल लेवल मेट्रिक्स, लेखक लेवल मेट्रिक्स, साइटस्कोर, अल्टमेट्रिक्स और स्कोपस सर्चिंग के बेहतर पहलुओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। एल्सेवियर के डॉ. नितिन घोषाल ने उद्धरण उपकरण के रूप में स्कोपस के बारे में चर्चा की। कार्यशाला में इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, योगा साइंस, फार्मेसी, बायोसाइंस के छात्र-छात्राओं सहित 70 प्रतिभागी शामिल हुए। मौके पर डॉ. नूपुर श्रीवास्तव, अभिषेक पांडे, अजय बंगारी, इंद्रपाल सिंह और कैलाश उनियाल मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।