DA Image
10 सितम्बर, 2020|12:18|IST

अगली स्टोरी

मेयर पर स्टांप शुल्क चोरी का आरोप

default image

प्रदेश सरकार से उच्च स्तरीय जांच की मांग

उग्रसेन नगर में एक प्रापर्टी खरीद का मामला

ऋषिकेश कचहरी के एक अधिवक्ता ने ऋषिकेश मेयर पर एक प्रापर्टी खरीदने के मामले में हजारों के स्टांप शुल्क कम जमा करान का आरोप लगाया है। उन्होंने प्रदेश सरकार से मामले की निष्पक्ष जांच कराने और कम स्टांप शुल्क के एवज में अर्थदंड वसूलने की मांग की है। उधर, मेयर ने आरोपों का खंडन किया है।

देहरादून रोड स्थित व्यापार सभा भवन में मंगलवार को पत्रकारवार्ता के दौरान अधिवक्ता अमित वत्स से स्टांप शुल्क कम जमा करने का आरोप लगाते हुए बताया कि मेयर अनिता ममगाईं ने हाल ही में उग्रसेन नगर में एक प्रापर्टी खरीदी है। आरोप लगाया कि सरकारी रजिस्ट्री में उक्त प्रापर्टी से जुड़े तथ्यों को छुपाया गया। सर्किल रेट से इतर संपत्ति का मूल्यांकन कर विक्रेता को भुगतान किया गया। जबकि बाजार मूल्य सर्किल रेट से तीन गुना है। आरोप लगाया कि संपति खरीद में मेयर ने स्टांप शुल्क कम जमा किया है। जो करीब 85 हजार है। उन्होंने बताया कि शासन के उच्चाधिकारियों से इसकी शिकायत की जा चुकी है। आरोप लगाया कि मामला प्रभावशाली जनप्रतिनिधि का होने के कारण अधिकारी भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। उन्होंने मेयर पर गलत प्रमाण पत्र और शपथ पत्र प्रस्तुत करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने सरकार से मामले की जांच कर अविलंब स्टांप ऐक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग की है। मौके पर अरविंद हटवाल भी मौजूद रहे।

इनकी सुनिए

स्टांप शुल्क के मामले में जानकारी नहीं है। मामले में दस्तावेज तैयार करने वाला वकील और रजिस्ट्री करने वाला सब रजिस्ट्रार ही उचित जवाब देंगे। प्रापर्टी बैंक से लोन लेकर खरीदी गई है, जिसमें किसी तरह की अनियमितता नहीं है।

अनिता ममगाईं, मेयर ऋषिकेश

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mayor charged with stamp duty evasion