ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड ऋषिकेशजनकल्याण को ऋषिनगरी में किन्नरों ने निकाली शोभायात्रा

जनकल्याण को ऋषिनगरी में किन्नरों ने निकाली शोभायात्रा

ऋषिनगरी में पहली बार मंगलवार को किन्नर सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें देशभर के विभिन्न राज्यों से छह हजार से अधिक किन्नर...

जनकल्याण को ऋषिनगरी में किन्नरों ने निकाली शोभायात्रा
हिन्दुस्तान टीम,रिषिकेषTue, 14 May 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

ऋषिनगरी में पहली बार मंगलवार को किन्नर सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें देशभर के विभिन्न राज्यों से छह हजार से अधिक किन्नर जुटे। छह दिवसीय आयोजन में जागरण-पूजन के साथ ही प्रसाद वितरण किया गया। अंतिम दिन जनकल्याण की कामना के साथ किन्नरों ने नगर क्षेत्र में शोभायात्रा निकाली। यात्रा का जगह-जगह स्थानीय लोगों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। त्रिवेणीघाट पर पहुंचकर किन्नरों ने श्रीगौरी शंकर महादेव मंदिर में पूजा-अर्चना कर यात्रा का समापन किया।
ऋषिकेश के रेलवे रोड स्थित मानवेंद्रनगर से दोपहर में शोभायात्रा का शुभारंभ कुलदेवी बहुचरा देवी की पूजा से हुआ। रेलवे रोड से होते ही शोभायात्रा त्रिवेणीघाट पहुंची। इस बीच यात्रा शहरभर में न सिर्फ आकर्षण का केंद्र रही, बल्कि स्थानीय लोग भी यात्रा में भगवान के जयकारे लगाते सुनाई दिए। जगह-जगह पर लोगों ने यात्रा पर पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। गाजे-बाजे के साथ किन्नर भजन-कीर्तन करते हुए त्रिवेणीघाट स्थित श्रीगौरी शंकर महादेव मंदिर में पूजा-अर्चना करने के लिए पहुंचे। आयोजक पूर्व राज्यमंत्री गद्दी नशीं रजनी रावत ने बताया कि इससे पहले यह सम्मेलन देहरादून में आयोजित होता आया है, लेकिन इस बार देवभूमि ऋषिकेश में यह कार्यक्रम रखा गया। बताया कि नौ मई से शुरू हुए सम्मेलन में देश के कई राज्यों से समाज के लोग जुटे। पहले दिन भगवती जागरण और उसके अगले दिन प्रसाद वितरण के लिए भंडारा हुआ। जनकल्याण की प्रार्थना के लिए रात 12 से तड़के चार बजे तक रोजाना पंचायत भी चली। पूर्व राज्यमंत्री ने बताया कि वह भगवान राम को मानने वाले हैं और उन्हीं के आदेश पर नर-नारियों के कल्याण के लिए इस तरह के आयोजन के माध्यम से प्रार्थना भी करते हैं। भगवान राम को मानने वाला हर शख्स किन्नर को भी मानता है। लोगों के रोजगार में बरकत और तंदरूस्ती के साथ खुशहाल जीवन के लिए इस सम्मेलन में रोजाना भगवान से प्रार्थना की गई। शोभयात्रा में भवानी नाथ, नायक लाली, सोनियानंद गिरि महाराज, गूंजा, पिंकी, असगर, लता, शीला, मुस्कान, परवीन, कमल, गीता, सटेरी गड्डू, मुनक, संगीत रानी, सीमा, राधा, जयपरदा, शालू, स्वीटी, सुनम, मीना, गौरीनाथ, सोनियानंद गिरि महाराज, सलीम हाजी, लाली, मुनक, शबनम, रामा, पूजा आदि शामिल रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।