DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रामनगर के ग्रामीणों ने पर्यटकों की आवाजाही रोकी

कंडी मार्ग को कांवड़ियों के लिये बंद किये जाने से ग्रामीण भड़क गये हैं। आक्रोशित ग्रामीणों ने कॉर्बेट पार्क के ढेला और झिरना गेट पर पर्यटकों की आवाजाही रोक दी। इससे 300 से अधिक पर्यटकों को मायूस होकर वापस लौटना पड़ा।

कॉर्बेट नेशनल पार्क के अधिकारियों ने रामनगर से कालागढ़ को जोड़ने वाला कंडी मार्ग को कांवड़ियों के लिये बंद करने का फरमान जारी किया है। इसके विरोध में रविवार को दर्जनों ग्रामीण ढेला गेट पर पहुंचे। यहां उन्होंने कॉर्बेट प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर सड़क के बीचों बीच पेड़ रख दिया। साथ ही उन्होंने शाम की पाली में झिरना और ढेला रेंज में जाने वाली 42 जिप्सियों को प्रवेश नहीं करने दिया। इस दौरान ग्रामीणों की जिप्सी चालकों से कहासुनी भी हुई। ग्रामीणों ने मार्ग पर कांवडियों के जाने की अनुमति नहीं मिलने तक पर्यटकों को प्रवेश नहीं करने देने का ऐलान किया है। पार्क अधिकारियों के अनुसार दोनों गेट बंद होने से झिरना को जाने वाली 30 जिप्सियों और ढेला जाने वाली 12 जिप्सियों के 300 पर्यटकों को वापस लौटना पड़ा। डायरेक्टर राहुल ने बताया कंडी मार्ग को जल्द खोला जायेगा। यहां गौतम पांडे, अंकित करगेती, गणेश करायत, प्रताप सिंह रावत, प्रताप बोहरा, जगमोहन सिंह बिष्ट, मोहन ठाकुर, आनंद सिंह नेगी रहे।

-------------

रोडवेज बस नहीं मिलने पर कांवड़ियों का गुस्सा फूटा

रामनगर। हरिद्वार जाने के लिए रोडवेज बस नहीं मिलने पर कांवड़ियों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने मुख्य गेट पर नारेबाजी करते हुए बसों की आवाजाही ठप कर दी। इससे कई डिपो की बसें परिसर के बाहर से ही अपने-अपने गंतव्य को रवाना हुई। इस दौरान यात्रियों को भी फजीहत का सामना करना पड़ा।

रविवार को रामनगर से हरिद्वार जाने के लिये दर्जनों कांवड़िये रोडवेज परिसर में पहुंचे। परिसर में हरिद्वार के लिये बस नहीं होने पर कांवड़िये भड़क गये। आक्रोशित कांवड़ियों ने रोडवेज डिपो के मुख्य गेट पर अपनी कांवड़ रख नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। कहा वे सुबह से बसों के इंतजार में खड़े हैं, लेकिन अधिकारियों की ओर से बसों की व्यवस्था नहीं की गयी। इससे परिसर में रानीखेत, हल्द्वानी डिपो की कई बसों की एंट्री नहीं हो पायी। साथ ही दर्जनों यात्रियों को बसों के लिये फजीहत झेलनी पड़ी। वहीं, हंगामें की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कांवड़ियों को शांत कराया। बाद में रोडवेज अधिकारियों ने रामनगर से दो अतरिक्त बसों को हरिद्वार भेजा। यहां रिशु कश्यप, सागर कश्यप, गौरव टम्टा, देवी कुमार, संतोष, रविंद्र मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Villagers of Ramnagar stopped tourists