DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दुग्ध उत्पादन से संवारें ग्रामीण अपना भविष्य

ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान आरसेटी में डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कम्पोस्ट निर्माण का प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान दुग्ध उत्पादन को आजीविका विकास के लिए महत्वपूर्ण बताते हुए प्रतिभागियों से नवीन तकनीक के साथ इसे अपनाने को कहा गया। प्रशिक्षण संक्षस्थान में आयोजित दस दिवसीय प्रशिक्षण के समापन अवसर पर खण्ड विकास अधिकारी श्याम चंद्र ने कहा कि यह प्रशिक्षण उपयोगी साबित होगा। कहा कि पर्वतीय क्षेत्र में दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं हैं। आरसेटी के निदेशक एनडी जोशी ने कहा कि दुग्ध व्यवसाय का रोजगार बेहद लाभदायक है। पशुचिकित्साधिकारी डॉ. सुरेंद्र गर्ब्याल,डॉ. सौरभ भट्ट ने पर्वतीय क्षेत्र में उन्नत नस्ल के पशुओं के रखरखाव की जानकारी दी। एसबीआई जाख के प्रबंधक मनोज कुमार ने विभिन्न ऋण योजनाओं के बारे में बताया। इस दौरान प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन किया गया और प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र बांटे गए। इस मौके पर ज्योति देवी, आरती, हीरा देवी, प्रकाश चंद्र जोशी कलावती, लक्ष्मण नाथ गोस्वामी सहित कई लोग शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Training of milk production to women given in rural self employment training institute