ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड पिथौरागढ़पिथौरागढ़ में दुकानों से खत्म हुआ आटा,लोग परेशान

पिथौरागढ़ में दुकानों से खत्म हुआ आटा,लोग परेशान

कोरोना के कहर के बाद किए गये लॉक डाउन का असर सीमांत के बाजारों में दिखने लगा है। यहां जिला मुख्यालय में अधिकतर दुकानों से ऑटा पूरी तरह समाप्त हो गया है। कई अन्य जरुरी वस्तुओं का भी यही हाल है। इससे...

पिथौरागढ़ में  दुकानों से खत्म हुआ आटा,लोग परेशान
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,पिथौरागढ़Sat, 28 Mar 2020 04:49 PM

कोरोना के कहर के बाद किए गये लॉक डाउन का असर सीमांत के बाजारों में दिखने लगा है। यहां जिला मुख्यालय में अधिकतर दुकानों से ऑटा पूरी तरह समाप्त हो गया है। कई अन्य जरुरी वस्तुओं का भी यही हाल है। इससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

शनिवार को लॉक डाउन के तहत सुबह 7से 1बजे तक बाजार में जरुरी वस्तुओं की दुकानें खुली रही। इस दौरान अधिकतर राशन की दुकानों में लोगों को आटा नहीं मिला। एक साथ शहर की सभी दुकानों से आटा खत्म हो जाने का असर गरीब व श्रमिक वर्ग पर पड़ रहा है। उन्हें इससे कई तरह की दिक्कतें हो रही हैं। बताया जा रहा है कि पिछले पांच दिनों में लोगों ने इतनी अधिक खरीदारी कर ली है कि जिससे बाजार से अगले पांच माह तक के लिए स्टॉक कर रखा गया आटा व अन्य जरुरी वस्तुएं खत्म हो गई हैं। नगर के कई थोक विक्रेताओं ने बताया कि आटा खटीमा व हल्द्वानी मिल में ही नहीं है। कहा कि मिल की तरफ से गेहूं का स्टाक खत्म होने की जानकारी दी जा रही है। जिस कारण आटे की आपूर्ति नहीं हो रही है।

--

अपील

घरों में आवश्यकता से अधिक सामान न करें स्टोर

पिथौरागढ़। नगर की दुकानों से एक साथ पूरी तरह से आटा समाप्त हो जाने पर आपात सेवा समिति के राजेन्द्र चिलकोटी ने लोगों ने घरों में आटे, चावल को स्टोर नहीं करने की अपील की है। कहा है कि ऐसा करने से गरीब लोग खरीदारी नहीं कर पा रहे हैं। कहा कि सक्षम लोगों को समझना चाहिए कि यह समय स्वयं के लिए नहीं बल्कि दूसरे लोगों के जीवन के लिए भी सहयोग देने का है। तीन से चार माह का राशन घर में स्टोर कर रखना समाज हित में ठीक नहीं है। इसमें लोगों को सहयोग करना चाहिए। अन्य जरुरी वस्तुओं के क्रय को लेकर भी लोगों को अपनी मानसिकता बदलनी होगी।

दुकानदार बोले 5 दिनों में हो गई अगले 4 माह की बिक्री

नगर के राशन विक्रेता सुनील कुमार ने बताया कि पांच दिनों में वे चार माह में होने वाली औसत बिक्री से अधिक का कारोबार कर चुके हैं। एक अन्य राशन विक्रेता कर्मेन्द्र जोशी ने कहा कि बुधवार तक लॉक डाउन के दौरान अच्छी खासी बिक्री हुई है। अब दुकान में मेल का सामान नहीं है। आपूर्ति नहीं होने के कारण दिक्कत हो रही है।

epaper