ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड पिथौरागढ़पिथौरागढ़ से लेकर मुनस्यारी तक आशाओं ने किया विरोध-प्रदर्शन

पिथौरागढ़ से लेकर मुनस्यारी तक आशाओं ने किया विरोध-प्रदर्शन

पहले दिन जिला मुख्यालय से लेकर मुनस्यारी तक आशाओं ने विरोध-प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ आक्रोश जताया। वक्ताओं ने कहा कि मानदेय सहित विभिन्न मांगों को...

पिथौरागढ़ से लेकर मुनस्यारी तक आशाओं ने किया विरोध-प्रदर्शन
हिन्दुस्तान टीम,पिथौरागढ़Fri, 23 Feb 2024 04:45 PM
ऐप पर पढ़ें

पिथौरागढ़, संवाददाता। सीमांत में पांच सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकत्रियों की दो दिवसीय हड़ताल शुरू हो गई है। पहले दिन जिला मुख्यालय से लेकर मुनस्यारी तक आशाओं ने विरोध-प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ आक्रोश जताया। वक्ताओं ने कहा कि मानदेय सहित विभिन्न मांगों को लेकर वह लंबे समय से आवाज उठा रही हैं, लेकिन उन्हें राहत नहीं मिल रही।
शुक्रवार को नगर के टकाना स्थित सीएमओ कार्यालय में संगठन की जिलाध्यक्ष इंद्रा देऊपा के नेतृत्व में कार्यकत्रियां एकत्र हुई। इस दौरान उन्होंने नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया और बाद में धरने में बैठ गए। उन्होंने सरकार से आशाओं का मासिक मानदेय निर्धारित करने, मानदेय को लेकर डीजी हेल्थ की ओर से बनाए गए प्रस्ताव को लागू करने, आशाओं को कर्मचारी का दर्जा देने, सेवानिवृत्त होने वाली आशाओं को एकमुश्त धनराशि व आजीवन पेंशन का प्रावधान, विभिन्न मदों के लिए दिए जाने वाली धनराशि को अनिवार्य रूप से हर महीने देने व ट्रेनिंग व पल्स पोलियो अभियान के दौरान प्रति दिन पांच सौ रुपए का भुगतान देने की मांग की है।

ये रहे शामिल

अनीता मेहता, उर्मिला खनका, बसंती सौन, गीता खनका, बसंती पांडेय, रश्मि चंद, शांति धरियाल, चंद्रा महर, पुष्पा राना, मंजू चंद, अंजू मल, हंसा देवी, नमीता देवी, पूजा देवी, रूकमणी मेहता, माया चंद, निर्मला तिवारी, माधवी जोशी, हेमा देवी, जंयती चंद, कविता सौन, गुड्डी देवी, निर्मला जोशी आदि मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें