DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › पिथौरागढ़ › पिथौरागढ़ में आमरण अनशन पर बैठे मनोज को प्रशासन ने उठाया
पिथौरागढ़

पिथौरागढ़ में आमरण अनशन पर बैठे मनोज को प्रशासन ने उठाया

हिन्दुस्तान टीम,पिथौरागढ़Published By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:50 PM
पिथौरागढ़ में आमरण अनशन पर बैठे मनोज को प्रशासन ने उठाया

वर्ष 2010 में सीएम को बम से उड़ाने के एक मामले में हुई कार्रवाई से खिन्न मनोज जिला अस्पताल में उपचार के बाद फिर से आमरण अनशन में बैठा। लेकिन दूसरे ही दिन प्रशासन की टीम ने मौके पर पहुंचकर उसे अनशन से उठाकर फिर से अस्पताल पहुंचाया। वह न्याय की गुहार लगाता रहा। लेकिन टीम ने उसकी नहीं सुनी। उसने कहा जब तक उसे न्याय नहीं मिलता, वह पीछे नहीं हटेगा।

सोमवार को बंगापानी तहसील के सिलिंग गांव निवासी मनोज टकाना स्थित रामलीला मैदान में धरने में बैठा था। इसी बीच तहसीलदार पंकज चंदोला के नेतृत्व में पुलिस-प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और उसे जबरन अनशन से उठाया। टीम ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया। वर्ष 2010 में झूठे आरोप में जेल भेज दिए गए बंगापानी निवासी मनोज नौकरी न मिलने से खिन्न है। उसने कहा वर्ष 2010 में किसी अज्ञात व्यक्ति ने देहरादून पुलिस को फोन कर परेड ग्राउंड की सभा में सीएम को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। निर्दोष होते हुए पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। उसकी नौकरी भी छूट गई और न्यायालय के चक्कर काटकर पैसा भी बर्बाद हो गया। न्यायालय ने उसे दोषमुक्त तो कर दिया। लेकिन पुलिस की कार्रवाई से उसका भविष्य बर्बाद हो गया। कहा जब तक उसे न्याय नहीं मिलता वह पीछे नहीं हटेगा।

संबंधित खबरें