DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नई पारी को तैयार सांसद तीरथ सिंह रावत

गढ़वाल संसदीय सीट से भाजपा के राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत ने जीत के साथ संसदीय राजनीति में प्रवेश कर लिया है। अभाविप कार्यकर्ता के रूप में छात्र राजनीति शुरू करने वाले तीरथ ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की राजनीति से राष्ट्रीय राजनीति में कदम रख लिया है। तीरथ सिंह रावत संघ पृष्ठभूमि से हैं। वे पौड़ी जिले के कल्जीखाल ब्लाक के सीरों गांव के मूल निवासी हैं। स्व. कलम सिंह रावत के सबसे छोटे बेटे तीरथ ने छात्र राजनीति गढ़वाल विवि के बिडला परिसर श्रीनगर से शुरू की। तीरथ वर्ष 1992 में गढ़वाल विवि के बिडला परिसर श्रीनगर में छात्र संघ अध्यक्ष बने। वे अभाविप के प्रदेश संगठन मंत्री, भाजयुमो में प्रदेश उपाध्यक्ष, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रहे। वर्ष 1997 में तीरथ उत्तर प्रदेश की विधान सभा में विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) बने। वर्ष 2000 में तीरथ सिंह रावत अंतरिम सरकार में उत्तराखंड के पहले शिक्षा मंत्री बने। वर्ष 2007 में भाजपा प्रदेश महामंत्री, प्रदेश सदस्यता प्रमुख, आपदा प्रबंधन सलाहकार समिति के अध्यक्ष चुने गए। साल 2012 में विधानसभा चौबट्टाखाल से विधायक और वर्ष 2013 में तीरथ सिंह भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बने। वर्ष 2017 में सिटिंग विधायक होते हुए टिकट कटने के बाद पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय सचिव की जिम्मेदारी सौंपी। वर्तमान में तीरथ हिमाचल प्रदेश के प्रभारी की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं। रामजन्म भूमि आंदोलन में दो माह तक जेल में रहे तीरथ ने उत्तराखंड राज्य आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:New shift ready MP Teerath Singh Rawat