DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अतिथि शिक्षकों ने उठाई पुनर्नियुक्ति की मांग

राजकीय माध्यमिक अतिथि शिक्षक संघ पौड़ी ने पुनर्नियुक्ति नहीं मिलने पर नाराजगी जताई है। शिक्षकों ने जल्द ही पुनर्नियुक्ति नहीं मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। संघ ने जल्द ही सरकार से पुर्ननियुक्ति की मांग उठाई है। संघ के जिलाध्यक्ष हरीश थपलियाल ने कहा है कि 31 मार्च 2018 के बाद अतिथि शिक्षकों की सेवाएं समाप्त कर दी गई। इसके बाद स्कूलों में शिक्षकों की कमी से छात्र-छात्राओं को पठन-पाठन में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस समय प्रदेश में एलटी संवर्ग में 3089 और प्रवक्ता में 4609 पद रिक्त चल रहे हैं। अतिथि शिक्षकों ने अपनी तैनाती के समय पूरी ईमानदारी के साथ शिक्षण कार्य करवाया। जिसके तहत बोर्ड परीक्षाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन भी सामने आया लेकिन सरकार द्वारा अतिथि शिक्षकों की लंबे समय से अनदेखी की जा रही है। अतिथि शिक्षकों की पुनर्नियुक्ति को लेकर सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है। जिससे अतिथि शिक्षक भी परेशान हैं। संगठन के उपाध्यक्ष दिवाकर मिश्रा का कहना है कि सरकार ने अतिथि शिक्षकों के लिए सुरक्षित भविष्य का वादा किया था लेकिन आज तक अतिथि शिक्षकों के लिए कोई कदम नहीं उठाए गए है। जिससे अतिथि शिक्षकों में सरकार के खिलाफ नाराजगी बनी है। उन्होंने जल्द ही पुनर्नियुक्ति की मांग उठाई है। संघ ने जल्द पुनर्नियुक्ति नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Guest teachers demand The Purananiyukati