Friday, January 21, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड पौड़ीडेंगू से बचाव के लिए जिला प्रशासन तैयार

डेंगू से बचाव के लिए जिला प्रशासन तैयार

हिन्दुस्तान टीम,पौड़ीNewswrap
Mon, 17 May 2021 05:10 PM
डेंगू से बचाव के लिए जिला प्रशासन तैयार

जिले में डेंगू नियंत्रण, रोकथाम के लिए प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी है। वर्चुअल के माध्यम से डेंगूल रोधी अंतर विभागीय समन्वय बैठक में डीएम ने संबंधित अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में डेंगू के नियंत्रण व रोकथाम के लिए विशेष अभियान चलाने, जन-जागरूकता के लिए नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत, सभी ग्राम पंचायतों में बैनर/पोस्टर लगाने के निर्देश भी दिए हैं। बैठक में जिलाधिकारी डा विजय कुमार जोगदंडे ने कहा कि डेंगू का मच्छर गर्म क्षेत्र में ज्यादा पनपता है।

इस दृष्टि से कोटद्वार और श्रीनगर अति संवेदनशील क्षेत्र हैं। डीएम ने नगर निगम कोटद्वार एवं नगर पालिका श्रीनगर के अधिकारियों निर्देशित करते हुए कहा कि पिछल एक-दो साल में जिस क्षेत्र में डेंगू के केस मिले हैं, उन स्थानों की सूची प्राप्त कर लें व बरसात से पूर्व ही उचित कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। कहा कि पानी के फैलाव को रोकने के लिए नियमित रूप से सफाई/दवाई छिड़काव करते रहें। साथ ही नालियों की साफ-सफाई तथा घर के आस-पास पानी के टैंकों की नियमित रूप से साफ रखें। डीएम ने नगर निगम और नगर पालिका के अधिकारियों को निर्देशित किया कि अपने-अपने क्षेत्र में डेंगू मच्छर के लारवा की संख्या में कमी करने के लिए नियमित रूप से दवाई छिड़काव करें। जल संस्‍थान व निगम के अधिकारियों को पानी के टैंकों में नियमित रूप से छिड़काव करनें और पानी की निकासी की व्‍यवस्‍था बनाने के निर्देश दिए। कहा कि पानी के जमावाड़े, फिशरी टैंक, पानी लिकेज, नाली, पानी के टैंक के आस-पास डेंगू बचाव के उपाय करें। शिक्षा विभाग को निर्देशित किया गया कि जिले में जितने भी विद्यालय हैं, स्कूल, कालेज खुलने से पहले विशेष अभियान चलाकर साफ-सफाई करवा ली जाय व नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत के माध्यम से दवाई छिड़काव कर लिया जाय। कहा कि डेंगू एक सामान्य बीमारी है और इससे घबराने की जरूरत नहीं है। कहा कि डेंगू का मच्छर दिन के समय काटता है, इसकी उड़ने की क्षमता 3-4 फिट ही होती है और इसकी पहचान सफेद और काले रंग की पट्टिया होती हैं। डेंगू मच्छर से बचाव के लिए जरूरी है कि मॉसकिटो कॉयल का प्रयोग करें। फुल स्लीप के कपड़े पहने, हाथ-पैरों का कवर करें, बैड को 3 फिट ऊंचा रखें। सीएमओ डा. मनोज शर्मा ने कहा कि डेंगू बीमारी के लक्षण तेज बुखार, उल्टी आना, शरीर पर लाल चकते पड़ना आदि है। कहा कि बुखार को कन्ट्रोल करने के लिए पेरासिटामॉल का प्रयोग कर सकते है। उन्होंने कहा कि भूलकर भी बु्रफिन या डिसप्रिन दवा का सेवन न करें, इससे स्वास्थ्य और खराब होता है। उन्होंने कहा कि हर बुखार डेंगू का नही होता है, डेंगू के लक्षण होने पर समय से डॉक्टर की सलाह लें और डॉक्टर की सलाह पर ही दवा का सेवन करें।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें