DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षकों की कमी से छात्र-छात्राएं परेशान

सरकार भले ही प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने की बात करती है लेकिन प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में शिक्षा व्यवस्थाओं का बुरा हाल है। शिक्षा व्यवस्था ठीक नहीं होने के चलते कई अभिभावक अपने बच्चों के साथ गांवों से पलायन करने को मजबूर हैं। पौड़ी जिले के दूरस्थ पाबौ ब्लाक के राजकीय इंटर कालेज ग्वालखुडा व राइंका जगतेश्वर चौलासैंण में शिक्षकों की कमी से छात्र-छात्राओं को पठन-पाठन में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शिक्षकों की कमी के चलते अभिभावक अपने पाल्यों को दूसरे स्कूलों में भेजने को मजबूर है। अभिभावक संघ व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों ने प्रदेश के शिक्षामंत्री से जल्द शिक्षकों की कमी को दूर करने की मांग की है। शिक्षामंत्री को भेजे गए ज्ञापन में राइंका ग्वालखुड़ा अभिभावक संघ के अध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद नौटियाल, बिमला देवी, शांति देवी, बबीता देवी आदि ने कहा है कि इन स्कूलों में शिक्षकों की कमी से छात्र-छात्राओं का पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है। बताया कि राइंका ग्वालखुड़ा में गणित, हिंदी, अंग्रेजी, भौतिक विज्ञान में प्रवक्ताओं की कमी लंबे समय से बनी है लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। कहा कि इस साल इस स्कूल के एक छात्र ने बोर्ड परीक्षा में 90 से भी ज्यादा फीसदी अंक हासिल कर प्रदेश का नाम बढ़ाया है लेकिन इसके बाद भी इस स्कूल में पिछले लंबे समय से शिक्षकों की कमी बनी हुई है। उन्होंने शिक्षामंत्री से जल्द ही इन स्कूलों में रिक्त पड़े शिक्षकों के पदों पर नियुक्ति करने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Demand for improving arrangements in hospital