DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  नैनीताल  ›  बिरसिंग्या के ग्रामीणों ने रोड नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया
नैनीताल

बिरसिंग्या के ग्रामीणों ने रोड नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया

हिन्दुस्तान टीम,नैनीतालPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 07:10 PM
बिरसिंग्या के ग्रामीणों ने रोड नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया

दशकों से सड़क की मांग कर रहे धारी ब्लॉक के बिरसिंग्या के ग्रामीणों ने रोड नहीं तो वोट नहीं का ऐलान किया है। ग्रामीणों ने कहा कि अब तक उन्हें जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों से मात्र आश्वासन के सिवा कुछ नहीं मिला। जिसके चलते ग्रामीण आज भी सड़क सुविधा से वंचित हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि पूर्व में तत्कालीन डीएम सविन बंसल ने अपने गांव प्रवास के दौरान सड़क की स्वीकृति के साथ सर्वे व डीपीआर के लिए 70 लाख की धनराशि देने की बात कही थी। परंतु आज तक कार्य धरातल पर नहीं उतर सका है। सामाजिक कार्यकर्ता रमेश टम्टा ने बताया कि बिरसिंग्या गांव अनुसूचित जाति बाहुल्य गांव है, जहां के ग्रामीण पांच किमी पैदल दूरी तय करने को मजबूर हैं। सड़क से गांव की दूरी ज्यादा होने से कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। बताया कि राज्य गठन के इतने साल बीतने के बाद भी आज तक कोई जनप्रतिनिधि व अधिकारी ग्रामीणों को सड़क से नहीं जोड़ पाया है। ग्रामीणों ने वन विभाग को 90 हेक्टेयर भूमि हस्तांतरण भी कर चुके हैं। विधायक राम सिंह कैड़ा ने अपनी विधायक निधि से ग्रामीणों के लिए दो किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य कराने का प्रयास किया। जिसे वन विभाग ने रोक दिया। क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता रमेश चंद्र टम्टा, प्रधान पुष्पा देवी, पूर्व प्रधान जयराम आदि ने गांव के लिए सड़क बनाने की मांग की है।

संबंधित खबरें