global community supporter of the tibet independence dr lobsang sangay - तिब्बत की आजादी का समर्थक है विश्व समुदाय: डा. लोबसांग सांगे DA Image
14 दिसंबर, 2019|11:26|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तिब्बत की आजादी का समर्थक है विश्व समुदाय: डा. लोबसांग सांगे

तिब्बत की आजादी का समर्थक है विश्व समुदाय: डा. लोबसांग सांगे

‘तिब्बत से हजारों मील दूर होने के बावजूद तिब्बती संस्कृति, परंपराएं और विरासत आज भी कायम हैं तो इसके पीछे भारत के साथ का बड़ा योगदान है। यह कहना है तिब्बती निर्वासित सरकार के प्रधानमंत्री और सेंट्रल तिब्बतन एडमिनिस्ट्रेशन के अध्यक्ष डॉ. लोबसांग सांगे का। उन्होंने बताया कि तिब्बती समुदाय ने इस साल को भारत का आभार जताने के लिये ‘थैंक यू इंडिया ईयर के तौर पर मनाने का निर्णय लिया है।नैनीताल में आयोजित साहित्य सम्मेलन में शिरकत के लिये पहुंचे डॉ. सांगे ने हिन्दुस्तान से बातचीत में बताया कि इस साल दलाई लामा को भारत आने के साठ साल पूरे हो चुके हैं। बताया कि भारत में रह रहे अधिकतर तिब्बती तिब्बत की आजादी के संघर्ष से जुड़े रहे हैं। इसीलिये इस साल तिब्बती लोग भारत का शुक्रिया अदा करने वाले हैं। दलाई लामा समेत तिब्बती समुदाय के हजारों लोगों को भारत ने जिस तरह अपने यहां शरण, सुरक्षा और सम्मान दिया है, वह अतुलनीय है। डॉ. सांगे ने कहा कि भारत के साथ ही विश्व समुदाय तिब्बत की आजादी का समर्थन कर रहा है। अमेरिका और यूरोप के कई देश बकायदा इसके लिए एक्ट पारित कर चुके हैं। इसके बावजूद तिब्बत में चीनी दमन जारी है। उन्होंने कहा कि तिब्बत को आजाद कराने के लिये संघर्ष जारी रहेगा।पारंपरिक तरीके से स्वागत कियानैनीताल स्थित तिब्बती बाजार में निर्वासित प्रधानमंत्री डॉ. सांगे बेहद सादगी के साथ पहुंचे। उन्होंने कहा कि भारत में उन्हें किसी प्रकार की सुरक्षा की जरूरत नहीं है। यहां पहुंचने पर डॉ. लोबसांग का पारंपरिक रूप से स्वागत किया गया। मल्लीताल व्यापार मंडल अध्यक्ष किशन नेगी, तिब्बती कांग्रेस के बांगडू, तेजिंग शेरिंग, लोपसांग डोलमा, थेंडुप सेरिंग, सेरिंग तोपगिल, लालथुंड रिंपुछे, आनंद खंपा, पालदेन, निर्मला आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:global community supporter of the tibet independence dr lobsang sangay