DA Image
23 जनवरी, 2021|8:24|IST

अगली स्टोरी

गेहूं की बुवाई न होने से खेत बने क्रिकेट के मैदान

गेहूं की बुवाई न होने से खेत बने क्रिकेट के मैदान

भीमताल। हमारे संवाददाता

पिछले लंबे समय से बारिश न होने से किसान परेशान होंगे लगे है। जिला में सूखे की स्थिति पैदा हो गई है। भीमताल में न केवल किसान बल्कि सभी लोग बारिश के लिए तरस रहे हैं, लेकिन मेघ हैं कि बरस ही नहीं रहे। यहां पिछले करीब 3 महीनों से बारिश नहीं हुई और अब सूखे जैसे स्थिति पैदा हो गई है। पूरे दिसंबर माह में एक बार बादलों ने दर्शन दिए और वह भी बूंदाबांदी कर निकल गए। इस दौरान किसानों ने बुवाई के लिए खेत तो तैयार किये, लेकिन बारिश न होने से बुवाई नहीं कर पाए। किसानों को अब भविष्य की चिंता सताने लगी है।

ओखलकांडा, धारी, रामगढ़ और भीमताल ब्लॉकों के किसानों की आजीविका का प्रमुख साधन कृषि है। खनस्यूं और पातोला गांव के किसान पनीराम, शंकर राम, सतीश चंद्र, दिनेश राम, रामदत्त कफल्टिया, सतीश सुयाल, ललित थुवाल और पूरन राम ने बताया कि क्षेत्र में अक्तूबर में गेहूं की बुवाई हो जाती थी, लेकिन इस बार जनवरी शुरू हो गयी है, लेकिन गेहूं की बुवाई नहीं हो पायी है। इससे उन्हें अब भविष्य की चिंता सताने लगी है। सिंचाई का साधन न होने के चलते किसान पूरी तरह बारिश पर ही निर्भर रहते हैं। बुवाई नहीं होने से खेत बंजर पड़े हैं। जो बच्चों के लिए क्रिकेट मैदान बने हैं। इधर बीडीसी सदस्य रवि गोस्वामी ने बताया कि अगस्त माह से बारिश न होने से क्षेत्र में सूखे की स्थिति पैदा हो गयी है। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों से सर्वे कर सूखा घोषित करने की मांग की है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Farming becomes a cricket ground due to lack of wheat sowing