DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पार्किंग स्थल का चयन न होने से ई-रिक्शा संचालन अधर में

नगर में ई-रिक्शा संचालन का मामला पार्किंग स्थल न मिल पाने के कारण अधर में है। यही कारण है कि अन्य शहरों में रिक्शों की जगह ले चुके ई-रिक्शा पर्यटक नगरी नैनीताल में नहीं पहुंच पा रहे हैं। बता दें कि ब्रिटिशकाल से ही नगर में सामान्य रिक्शों का चलन था। हालांकि पूर्व में हाथ रिक्शा भी चलन में थे, लेकिन सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में देशभर में इनका संचालन बंद कर दिया गया। इसके बाद सामान्य रिक्शों का चलन बढ़ा। पालिका से प्राप्त जानकारी के मुताबिक वर्तमान में नगर में 87 रिक्शे हैं। अन्य शहरों में ई-रिक्शा संचालन के बाद नगर में भी इसकी मांग उठने लगी है।रिक्शा मालिक/चालक समिति की मांग पर बीते वर्ष पालिका प्रबंधन ने रिक्शे का किराया 10 रुपये से बढ़ाकर 20 रुपये किया था। इस दौरान पालिका प्रबंधन ने आमजन की सुविधा को देखते हुए तल्लीताल से मल्लीताल 5 रुपये प्रति व्यक्ति किराए पर ई-रिक्शा संचालित करने का आश्वासन भी दिया था। इसके चलते कई कंपनियों ने डेमो भी दिया। बाद में ई-रिक्शा पार्किंग आदि पर सवाल उठे। जनहित संगठन ने उठाई मांगनैनीताल। रिक्शा किराया बढ़ोतरी के खिलाफ तथा नगर में ई-रिक्शा संचालन के लिए जनहित संगठन की ओर से लगातार मांग की जा रही है। किराए के संबंध में बोर्ड बैठक में भी उन्होंने प्रबलता से पक्ष रखा था। अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी, जगमोहन बिष्ट, शाकिर अली, अशोक साह आदि का कहना है कि इसके लिए संगठन हमेशा प्रयास करेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:E-rickshaw operations stop due to non-selection of parking space