DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिव्यांग-गरीबों का सहारा बना हंस फाउंडेशन

दिव्यांग-गरीबों का सहारा बना हंस फाउंडेशन

हंस फाउंडेशन के तत्वावधान में स्थानीय लेक सिटी वेलफेयर संस्था के सहयोग से रविवार को मल्लीताल जूमलैंड में आयोजित वृहद निःशुल्क चिकित्सा शिविर लोगों के लिए यादगार रहा। हंस फाउंडेशन दिव्यांगों का सहारा बना तो गरीबों का नि:शुल्क उपचार कराया। देर शाम तक 2870 लोगों का परीक्षण कर उन्हें दवाएं बांटी गईं।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि हाईकोर्ट के न्यायाधीश सर्वेश कुमार गुप्ता व क्षेत्रीय विधायक संजीव आर्या ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलन से किया। इससे पूर्व हंस फाउंडेशन के प्रदेश प्रभारी परमेंद्र बिष्ट ने फाउंडेशन की ओर से किए जा रहे कार्यों के बारे में बताया। बता दें कि नि:शुल्क शिविर के लिए लोगों ने काफी पहले ही पंजीकरण कराना शुरू कर दिया था। रविवार सुबह 10 बजे शिविर की शुरुआत के साथ ही यहां मरीजों की भीड़ बढ़नी शुरू हो गई थी। शाम तक यहां मरीजों का जमावड़ा था। हर चिकित्सक के कक्ष के समीप कतार लगी हुई थी। लोगों ने अपना परीक्षण कराया और दवाएं भी प्राप्त कीं। मरीजों का डॉ.प्रशांत जुगरान, डॉ.विनायक रावत, डॉ.आरएस रौथाण, डॉ.शाहिद सिद्दीकी, डॉ.आरती रौथाण, डॉ.योगेश दुग्ताल ने परीक्षण किया। कार्यक्रम संयोजिका अमिता साह, गीता साह, मीनाक्षी कीर्ति, दीपेंद्र, तारा चौधरी, मीनाक्षी जोशी, हेमा भट्ट, रेखा पंत, मीनू बुधलाकोटी, संगीता, जीवंती भट्ट, रानी, भारती, शालिनी साह, ज्योति, आरती, विनीता पांडे, सोनू, डा.रेखा त्रिवेदी, मंजू बिष्ट आदि लगे रहे।

व्हील चेयर और बैसाखी बांटीं

कार्यक्रम में 20 दिव्यांगों को व्हील चेयर, 20 को बैसाखी, एक ट्राई साइकिल समेत 400 को कान की मशीन, 500 को नजर के चश्मे वितरित किए गए। इस दौरान 20 विधवाओं को पेंशन भी बांटी गई।

14 गंभीर रोगी का उपचार कराएगा फाउंडेशन

कार्यक्रम में 14 गंभीर रोगी भी उपचार के लिए पहुंचे थे। इसमें कैंसर समेत किडनी ट्यूमर, न्यूरो, यूरो आदि से संबंधित मरीज थे। हंस फाउंडेशन ने उन्हें नि:शुल्क उपचार मुहैया कराने का आश्वासन दिया। कहा कि वह संबंधित अस्पताल से बीमारी के उपचार का स्टीमेट बनवाएं, जिसके बाद संस्था उक्त धनराशि संबंधित अस्पताल को उपलब्ध कराएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Divyang-poor take benefit from Hans Foundation