ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड नैनीतालकुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की उपाधि

कुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की उपाधि

कार्य परिषदकुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की उपाधिकुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की उपाधिकुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की...

कुमाऊं विवि के 118 शोधार्थियों को शोध की उपाधि
हिन्दुस्तान टीम,नैनीतालFri, 08 Dec 2023 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

नैनीताल, संवाददाता।
कुमाऊं विवि मुख्यालय में शुक्रवार को 150वीं कार्य परिषद की बैठक हुई। जिसमें ईसी सदस्यों की मौजूदगी में विभिन्न अहम बिंदुओं पर विचार विमर्श के बाद कई निर्णय लिए गए। इस बीच विभिन्न विषयों में रिसर्च पूरी कर चुके 118 शोधार्थियों को पीएचडी की उपाधि प्रदान करने की अंतिम संस्तुति प्रदान की गई। हालांकि औपचारिक रूप से उन्हें दीक्षांत समारोह में उपाधि प्रदान की जाएगी।

कुलपति प्रो. डीएस रावत की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में विवि कार्य परिषद की ओर से पूर्व में आयोजित बैठक की कार्रवाई की पुष्टि की गई। कुल सचिव दिनेश चंद्रा ने बीती 10 फरवरी को संपन्न हुई विवि कार्य परिषद की 149वीं बैठक की कार्रवाई पर किए गए कार्यों का विवरण पेश किया। नवनियुक्त कुलपति प्रो. दीवान सिंह बिष्ट के कुलपति के पद पर कार्यभार ग्रहण करने के संबंध में अनुमोदन किया गया। बैठक की कार्रवाई शुरू किए जाने के साथ ही विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से रखे गए कुल 31 बिंदुओं पर विचार विमर्श के बाद अहम मामलों में निर्णय लिया गया। वहीं विवि में विभिन्न विषयों में पंजीकृत 118 शोधार्थियों को शोध उपाधि देने पर सहमति बनी। विश्वविद्यालय में शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कार्मिकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए जारी विज्ञप्ति की वैद्यता एक वर्ष तक रखे जाने व शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों पर रोस्टर निर्धारण को लेकर दिशा-निर्देशों का अनुमोदन तथा रोस्टर निर्धारण समिति का अनुमोदन किया गया। कार्य परिषद की ओर से विभिन्न देशों के ख्याति प्राप्त विषय विशेषज्ञों के अनुभवों का लाभ कुविवि में अध्ययनरत विद्यार्थियों को प्रदान किए जाने के लिए विभिन्न विजिटिंग प्रोफेसरों को विवि में आमंत्रित किए जाने के संबंध में निर्णय लिया गया। विभिन्न ख्याति प्राप्त विदेशी एवं स्वदेशी संस्थानों तथा विभिन्न उद्योगों के उच्च स्तर के अधिकारियों के नामों का अनुमोदन कार्यपरिषद की ओर से किया गया। इसके अलावा विवि में विधि संकाय, शिक्षा संकाय, कृषि संकाय व अन्य स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रमों में नियमित पदों के सृजन के लिए प्रस्ताव शासन को भेजने पर सहमति बनी। यहां कार्य परिषद के सदस्य सेवानिवृत्त न्यायाधीश रमेश चंद्र खुल्बे, डॉ. शिव नारायण, कैलाश चंद्र जोशी, डॉ. सुरेश डालाकोटी, डॉ. बीएस जीना, प्रकाश पांडे, वित्त नियंत्रक अनीता आर्या समेत विभिन्न संकायों के संकायाध्यक्ष एवं प्राचार्य रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।