DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहाड़ों में घटते जलस्तर पर चिंता जताई

गुरु शिक्षा पर्यावरण बाल एवं महिला उत्थान समिति भृगुखाल द्वारा आयोजित विचार गोष्ठी में क्षेत्र की महिला कीर्तन मंडलियों ने प्रतिभाग करते हुए अपने विचार रखे। पर्यावरण संरक्षण में महिलाओं की भूमिका एवं रोजगार की सम्भावना विषय पर आधारित विचार गोष्ठी में यमकेश्वर क्षेत्र से आई विभिन्न कीर्तन मण्डली के सदस्यों ने आग लगने से जंगलों को हो रहे नुकसान व पहाड़ों में पीने के पानी के घटते जल स्तर चिंता जताई। विचार गोष्ठी से पूर्व समिति द्वारा कीर्तन मण्डली के सदस्यों को प्रॉजेक्टर के माध्यम से देश दुनिया मे बिगड़ते पर्यावरण से हो रहे नुकसान के बारे में जानकारी दी गई। इसके बाद कीर्तन मण्डली के सदस्यों ने अपने अपने खेतों में 10-10 पेड़ लगाने की शपथ ली। कीर्तन मण्डली थानू की अध्यक्ष राजेश्वरी देवी ने कहा कि वन विभाग वर्षो से पेड़ लगाता आ रहा है लेकिन देखरेख की कमी के कारण ये पेड़ पनप नहीं पाते हैं। कीर्तन मण्डली की सदस्य अनिता देवी ने कहा की सरकार को वन सरंक्षण के माध्यम से महिलाओं के लिए रोजगार पैदा करना चाहिए जिससे महिलाये जंगलो को अपना सके। समिति के संस्थापक कपिल रतूड़ी ने कहा कि राज्य में पर्यावरण सन्तुलन अविकसित है, जिसमे सुधार की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि समिति अगले दो माह में यमकेश्वर क्षेत्र की अन्य कीर्तन मण्डलियों के माध्यम से एक हजार महिला सदस्यों को जोड़कर क्षेत्र में एक लाख पौधों का रोपण का कार्य करेगी एवं रोजगार भी उपलब्ध करवाएगी। समिति के कोर्डिनेटर अतुल दर्शन ने कीर्तन मण्डली के सदस्यों को वनों के महत्व की जानकारी दी। इस अवसर पर समिति के सचिव सुनील कांत, कोषाध्यक्ष साधना रतूड़ी, पूनम देवी, ममता देवी, कमलेश्वरी देवी, सुमनलता देवी, गुड्डी देवी, पुष्पा देवी, सतेश्वरी देवी, कविता देवी (ग्राम चोपड़ा) सुमति देवी (विठ्यानी) रेखा देवी, बसन्ती देवी, प्रतिमा देवी (जयहरी तल्ली) सीता देवी, संगीता देवी,सीमा देवी, आकांक्षा देवी (ठांगर ) शोभा देवी, आलोक बिष्ट, सोहन सिंह आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:water problem