DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोटद्वार मं पॉलीथिन और थर्माकोल पर प्रशासन लापरवाह

शहर में पॉलीथिन और थर्माकोल का बेरोकटोक धड़ल्ले से प्रयोग किया जा रहा है। सभी किराना, सब्जी वाले, ठेला, फड़ व्यवसायी पॉलीथिन में सामान बेच रहे हैं। केवल पॉलीथिन ही नहीं प्लास्टिक व थर्माकोल के डिस्पोजल भी लोगों द्वारा पार्टी व अन्य कार्यक्रमों में प्रयोग किए जा रहे हैं। प्रशासन की आंखों के सामने खुलेआम पॉलीथिन, प्लास्टिक व थर्माकोल के डिस्पोजल का प्रयोग हो रहा है, लेकिन प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा है।नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में हाईकोर्ट के निर्देश की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। शुरूआत में प्रशासन व पालिका ने पॉलीथिन के प्रयोग पर रोक लगाने के लिए छापेमारी की थी और कई दुकानों से पॉलीथिन जब्त कर चालान भी काटा था। लेकिन अब दोबारा पॉलीथिन सजने लगी है। जब प्रतिबंध लगा था तो लोगों ने विकल्प के रुप में कपड़े के बैग का प्रयोग करना शुरु कर दिया था। लेकिन अब यह अभियान औपचारिकता मात्र रह गया है।

नालियां हो रही हैं चोक

नगर समेत आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में पॉलीथिन का प्रयोग हो रहा है या नहीं यह वहां की नालियों से ही स्पष्ट हो जाता है। लोगों द्वारा पॉलीथीन फेंकने से कई स्थानों पर नालियां चोक हो रही हैं। जिससे क्षेत्र की सफाई व्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ता है। ट्रंचिंग ग्राउंड में लगातार एकत्रित हो रही पॉलीथिन पर्यावरण व पशुओं के लिए भी बेहद हानिकारक है।

इनका कहना है...

प्लास्टिक को बाजार में पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है। शीघ्र छापामारी अभियान चलाया जाएगा। जिसके पास पॉलीथिन पाई गई कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

राकेश नैथानी, सहायक नगर आयुक्त

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:use of polythin in kotdwar