DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुखरौ नदी किनारे फैले कचरे से लोग परेशान

सुखरौ नदी के किनारे लगे गंदगी के ढेर ग्राम नयागांव निवासियों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। गंदगी से ग्रामीण क्षेत्र में बीमारी फैलने का खतरा बना हुआ है। एनजीटी के आदेशों की खुलेआम हो रही अवहेलना के बावजूद जिम्मेदार तंत्र मूकदर्शक बना हुआ है। ग्राम पंचायत बलभद्रपुर की नयागांव कालोनी सुखरौ नदी के किनारे बसी हुई है। यहां पिछले छह माह से प्रशासन की नाक के नीचे एनजीटी के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ रही हैं। दिन दहाड़े नदी के किनारे ट्रैक्टर ट्राली में भरकर होटल का कचरा, मरे हुए जानवर और फैक्ट्रियों की गंदगी डाली जा रही है। वहां से उठने वाली दुर्गंध के कारण लोगों का घर के अंदर तक रहना दूभर हो गया है।स्थानीय निवासी महिपाल, संतोष, जितेन्द्र, मनोज, शकुंतला, रणवीर सिंह, नवेंद्र सिंह, भोपाल सिंह, धीरज सिंह आदि ने प्रशासन पर उनकी अनदेखी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि नदी के किनारे खनन करने वाले लोग झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं और वे खुले में शौच कर क्षेत्र में गंदगी फैला रहे हैं। ट्रैक्टर ट्राली में भरकर होटलों, शादी विवाह का कचरा और फैक्ट्रियों की गंदगी डाली जा रही है। जिससे संक्रामक बीमारियों की आशंका बनी हुई है। तहसीलदार सीएस रावत का कहना है कि मामला संज्ञान में है और जल्द ही इस समस्या का निस्तारण किया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:problem of west in kotdwar