DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश सरकार पर भड़का प्राथमिक शिक्षक संघ

प्रदेश शासन की ओर से दस से कम छात्र संख्या वाले प्राथमिक विद्यालयों में एक ही शिक्षक की तैनाती व माध्यमिक विद्यालयों से 3 किमी. की दूरी पर स्थित जूनियर विद्यालय को बंद करके माध्यमिक विद्यालय में विलीनीकरण करने के फैसले का प्राथमिक शिक्षक संघ ने कड़ा विरोध किया है।प्राथमिक शिक्षकों की यहां आयोजित बैठक में जिला मंत्री दीपक नेगी ने कहा कि उक्त योजना यदि अमल में आई तो राज्य में प्राथमिक शिक्षकों के कई पद समाप्त हो जायेंगे। यह योजना शिक्षा के अधिकार अधिनियम की मूल भावना के विपरीत है। कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में पलायन के कारण अधिकतर विद्यालयों में छात्र संख्या घटी है जबकि शहर में राजकीय विद्यालयों के नजदीक ही स्थित प्राइवेट स्कूलों पर कार्रवाई करने में सरकार हिचक रही है। इन विद्यालयों पर कार्रवाई करने के बजाय सरकारी स्कूलों को बंद किया जा रहा है। इसी प्रकार शिक्षकों की संख्या को कम कर सरकार शिक्षा को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी कर रही है, जिसका विरोध जारी रखा जायेगा।बैठक में भीम सिंह, मनीष राणा, मधुसूदन हिंदवाण, विपुल भंडारी, शमसेर जंग, दिनेश गुसाई और संजय रावत आदि थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:primary teacher association