DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोटद्वार के गांवों को नगर निगम में शामिल करने का विरोध

शासन की ओर से कोटद्वार नगर पालिका का विस्तार कर नगर निगम बनाने के प्रस्ताव का विरोध जारी है। ग्रामीण क्षेत्र की जनता ग्राम सभाओं को नगर पालिका में मिलाकर नगर निगम बनाने का विरोध कर रही है। सनेह क्षेत्र की ग्राम सभा निवासियों ने भी प्रस्तावित नगर निगम में उनकी ग्राम सभाओं को सम्मिलित करने पर रोष व्यक्त करते हुए तहसील में प्रदर्शन किया और एसडीएम राकेश तिवारी के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन प्रेषित किया। गुरुवार को सनेह क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली लालपानी, रतनपुर, कोटडीढांग, ग्रास्टनगंज आदि क्षेत्रों की जनता तहसील में एकत्रित हुई और उन्होंने नगर निगम बनाने का विरोध करते हुए उनकी ग्राम सभाओं को नगर निगम में शामिल नहीं करने की मांग की। वक्ताओं ने कहा कि वर्तमान नगरपालिका अभी भी कई समस्याओं से जूझ रही है। इसमें कूड़ा निस्तारण एक बहुत बड़ी समस्या है, जिसका हल अभी तक नहीं खोजा जा सका है। इसके अलावा शहर का सीवर निस्तारण भी पालिका के लिए बड़ी समस्या खड़ी कर सकता है क्योंकि यह उत्तर प्रदेश की सीमा पर खुले में निस्तारित हो रहा है। कहा कि गांवों में अधिकतर मध्यम और निम्न वर्ग का तबका निवास करता है, जो करों के बोझ को नहीं झेल पाएगा। इसलिए ग्राम सभाओं को नगर निगम में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। ज्ञापन प्रेषित करने वालों में ग्राम प्रधान कुंभीचौड़ दीपक पांडे, रतनपुर ग्राम प्रधान जगमोहन सिंह रावत, ग्राम प्रधान कोटडीढांग विजयराम आर्य, ग्राम प्रधान ग्रास्टनगंज विपुल बलूनी, ग्राम प्रधान लालपानी संजय पंथवाल सहित बड़ी संख्या में क्षेत्रीय जनता शामिल रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Opposition to join in the municipal corporation