DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › काशीपुर › यह तो है स्कूलों की मनमानी, स्कूल खुलते ही बढ़ा दी फीस 
काशीपुर

यह तो है स्कूलों की मनमानी, स्कूल खुलते ही बढ़ा दी फीस 

हिन्दुस्तान टीम, काशीपुर Published By: Himanshu Kumar Lall
Tue, 28 Sep 2021 02:51 PM
यह तो है स्कूलों की मनमानी, स्कूल खुलते ही बढ़ा दी फीस 

स्कूल खुलने के आदेश के साथ शहर के निजी स्कूलों ने फीस बढ़ा दी है। इसके पीछे स्कूल संचालकों ने अब ट्रांसपोर्टेशन खर्च का हवाला दिया है। स्कूल के इस फैसले से महंगाई की मार झेल रहे अभिभावकों पर और भार पड़ना तय है। काशीपुर में सीबीएसई बोर्ड से संबंद्ध 22 स्कूल संचालित होते हैं। इनमें से अधिकांश स्कूलों ने शासन-प्रशासन के 21 सितंबर से प्राइमरी स्कूलों को खोलने के आदेश के बावजूद अब तक स्कूलों में कक्षाएं शुरू नहीं की हैं।

उधर, निजी स्कूलों के प्रबंधकों की मानें तो उनका कहना है वह पहले अपने स्कूली वाहनों की फिटनेस प्रमाण पत्र लेंगे उसके बाद ही कक्षाएं शुरू हो पाएंगी। क्योंकि बीते वर्ष मार्च 2020 से स्कूल कोरोना संक्रमण के चलते बंद कर दिए गए थे। तब से अब तक अधिकांश स्कूली वाहनों का संचालन नहीं हुआ है। कहा शासन-प्रशासन ने एकाएक आदेश जारी कर दिए जिसके चलते समय से स्कूल नहीं खुल सकेंगे। कहा बीते वर्ष के मुकाबले अब ट्रांसपोर्टेशन का खर्च बढ़ गया है। 

दूसरी तरफ अभिभावकों की मानें तो क्षेत्र के अधिकांश स्कूलों में एकाएक फीस में काफी वृद्धि कर दी गई है। स्कूल प्रबंधन अब पेट्रोल-डीजल मूल्य वृद्धि होने पर ट्रांसपोर्टेशन का किराया भी काफी बढ़ाकर लेने की बात कह रहे हैं। जो  हर एक अभिभावक को वहन करना मुश्किल होगा। कई अभिभावकों ने कहा वह कई बार स्कूल प्रबंधकों से प्राइमरी कक्षाएं शुरु कराने की बात कह चुके हैं, लेकिन वह लोग वाहनों की फिटनेस की बात कहकर कुछ समय बाद कक्षाएं शुरू करने की बात कह रहे हैं

कोरोना के चलते स्कूली वाहनों का संचालन नहीं हुआ था। अब स्कूल प्रबंधन वाहनों की फिटनेस करा रहे हैं। शीघ्र ही सभी प्राइमरी कक्षाएं शुरू हो जाएंगी। स्कूल प्रबंधकों ने अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने का सहमति पत्र लेना शुरू कर दिया है।
बीबी भट्ट, अध्यक्ष, तराई प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन, काशीपुर

स्कूली वाहनों समेत प्रत्येक वाहन की फिटनेस आवश्यक है। लगभग डेढ़ साल से स्कूली वाहनों का संचालन नहीं होने से कोरोना के चलते फिटनेस प्रमाण पत्र नहीं लिया होगा। जो कि अब स्कूल खुलने के बाद स्कूल संचालक स्कूली वाहनों के फिटनेस प्रमाण पत्र ले रहे हैं। 
असित कुमार झा, एआरटीओ, काशीपुर 

संबंधित खबरें