DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  काशीपुर  ›  बाजपुर में बैसाखी पर गुरु की महिमा का बखान

काशीपुरबाजपुर में बैसाखी पर गुरु की महिमा का बखान

हिन्दुस्तान टीम,काशीपुरPublished By: Newswrap
Tue, 13 Apr 2021 06:30 PM
बाजपुर में बैसाखी पर गुरु की महिमा का बखान

बाजपुर। हमारे संवाददाता

गुरुद्वारा सिंह सभा में बैसाखी पर्व धूमधाम से मनाया गया। गुरुद्वारा सिंहसभा में अखंड पाठ का भोग डाला गया। भोग के उपरांत गुरु का लंगर अटूट बरताया गया।

प्रमुख कथावाचक हेड ग्रंथी भाई राजेंद्र सिंह ने गुरबाणी का बखान किया। भाई राजेंद्र सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना के बारे में बताते हुए कहा कि सिखों के दसवें गुरु श्री गोबिंद सिंह जी महाराज ने आज के दिन ही खालसा पंथ की स्थापना की थी। इसके बाद से बैसाखी के पर्व पर खालसा पंथ का स्थापना दिवस मनाया जाता है। उन्होंने सभी संगत से अमृत संचार करके गुरु की शिक्षा पर चलने की अपील की। साथ ही उन्होंने पंजाबी भाषा और गुरबाणी सीखने के लिए सभी को प्रेरित किया। रागी जत्था भाई साहब भाई दर्शन सिंह ने सिख धर्म का बखान किया। इसके उपरांत टाढ़ी जत्था ने अपने चिर परिचित अंदाज में गुरु की महिमा का वर्णन किया। स्कूली बच्चों ने श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज की शान में कविता पाठ किया। वहीं बैसाखी पर्व पर गुरुद्वारा सिंह सभा में 90 लोगों ने अमृत पान किया। इसके उपरांत विशाल लंगर का आयोजन किया गया। इसमें हजारों लोगों ने लंगर छका।

इस मौके पर हरमंदर सिंह बरार, कर्म सिंह पड्डा, कुलविंदर सिंह किंदा, हरदयाल सिंह, कुंवरजीत सिंह पूनिया, बलविंदर सिंह, महकराज चैधरी, बाज सिंह, विक्की, गुरमंगत सिंह, बलदेव सिंह आदि रहे।

संबंधित खबरें