DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लॉक प्रमुख को फंसाने के लिए कराई दया की हत्या

पतरामपुर स्थित मिलक सीपका में पिछले शुक्रवार को दिनदहाड़े हुए किसान दया सिंह हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस का दावा है कि गोलीकांड में घायल देवेंद्र सिंह उर्फ लब्बा ने ही काशीपुर के ब्लॉक प्रमुख गुरमुख सिंह को फंसाने के लिए हत्या की साजिश रची थी। पुलिस ने लब्बा के अलावा भाड़े के तीन शूटरों को भी गिरफ्तार कर लिया है।एसएसपी डॉ.सदानंद दाते ने शुक्रवार को जसपुर कोतवाली में हत्याकांड का खुलासा किया।

एसएसपी डॉ.दाते ने बताया कि शुक्रवार को किसान दया सिंह की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस गोली कांड में दया सिंह के बेटे का साला काशीपुर निवासी देवेंद्र सिंह उर्फ लब्बा जांघ में गोली लगने से घायल हो गया था। एसएसपी ने बताया कि जांच में लब्बा पर पुलिस का शक गहरा गया। मौके से मिले सुराग और कॉल डिटेल निकाली गई तो लब्बा घिरता चला गया। बाद में लब्बा से सख्ती से पूछताछ की गई तो उसने हत्या का राज उगल दिया।एसएसपी ने बताया कि मानपुर, काशीपुर निवासी देवेंद्र सिंह उर्फ लब्बा पुत्र अजीत सिंह ने ब्लॉक प्रमुख गुरमुख सिंह को पुरानी दुश्मनी में फंसाने के लिए सीपका में किसान दया सिंह की हत्या की साजिश रची। इसके लिए उसने भाड़े के दो शूटरों को 10 लाख की सुपारी दी थी।

जेल में बुना था हत्या का तानाबाना

एसएसपी डॉ.दाते के मुताबिक, देवेंद्र सिंह उर्फ लब्बा ब्लॉक प्रमुख के भतीजे के हत्या के केस में जेल में बंद था। इस दौरान उसकी जेल में बंद मोहल्ला किला थाना मंगलौर, हरिद्वार निवासी कलीम पुत्र सलीम से पहचान हो गई। कलीम के साथ मिलकर उसने गुरमुख को फंसाने के लिए जेल में ही प्लान बनाया। कलीम ने ही लब्बा को अपने भाई अलीम, दोस्त शंकर उर्फ रवि पुत्र अमित शर्मा निवासी बाबरखेड़ा काशीपुर, नरेंद्र शर्मा पुत्र महावीर प्रसाद निवासी भिक्की थाना सिकेड़ा, मुजफ्फरनगर से हत्याकांड के लिए दस लाख रुपये में सौदा तय कराया था। अलीम ने ही दोनों शूटरों को हथियार मुहैया कराए थे। योजना के तहत 25 मई को पहले लब्बा बहन के घर सीपका आया। उसने खुद पर बदमाशों से गोली चलवाई। उसके बाद शंकर और नरेंद्र शर्मा ने गोशाला में काम कर रहे दया सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद दोनों बाइक से भोगपुर डाम की ओर भाग गए।

तमंचा और 46 हजार की नगदी बरामद

एसएसपी ने बताया कि पुलिस ने लब्बा और उसके तीनों शूटरों को गिरफ्तार कर लिया है। उनकी निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल तमंचा, कारतूस, पिस्टल और 46 हजार रुपये की नगदी बरामद की गई है। विधायक आदेश चौहान ने पुलिस टीम की सराहना की। मौके पर एएसपी डॉ.जगदीश चन्द्र, सीओ राजेश भट्ट, कोतवाल अबुल कलाम, चंचल शर्मा, सुधीर कुमार, एसएसआई कमलेश भट्ट, जयपाल सिंह, जगदीश राम, सतीश कापड़ी, सुरेंद्र बिष्ट, अनिल जोशी, ममता मखलोगा,कुलदीप सिंह, करतार, अरविंद,नरेंद्र,पान सिंह, सुरेंद्र बोरा,रामेश्वर, प्रवेश, गिरीश आदि शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ssp reaveals Daya homicide case of jaspur