DA Image
8 मई, 2021|6:50|IST

अगली स्टोरी

धार्मिक पुस्तक की बेअदबी से भड़के लोग

default image

बाजपुर गांव में समुदाय विशेष की धार्मिक पुस्तक की बेअदबी और धर्मस्थल में तोड़फोड़ की सूचना से गांव में आक्रोश फैल गया। ग्रामीणों ने संदिग्ध हालत में एक युवक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। पूछताछ में युवक ने धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ और पुस्तक जलाने की बात स्वीकारी। आरोपी का पुलिस एक्ट में चालान किया गया।

बाजपुर गांव के रंपुरा शाकर स्थित एक धर्मस्थल में अज्ञात व्यक्ति ने तोड़फोड़ कर दी। इतना ही नहीं वहां रखी धार्मिक पुस्तक भी जला दी। सुबह तड़के चार बजे जब नमाजी वहां पहुंचे तो उन्होंने धार्मिक पुस्तक के अधजले अवशेष देखे। इससे वहां हड़कंप मच गया। आनन-फानन में ही पूरे गांव में बात फैल गई। इस पर पूर्व दर्जा राज्य मंत्री कदीर ठेकेदार व अन्य लोग पहुंच गये। लोगों ने वहां पर मौजूद एक संदिग्ध युवक को रोकना चाहा तो वह भागने लगा। लोगों ने पीछा कर उसे पकड़ लिया। पूछताछ में युवक ने धर्मस्थल में हुए कृत्य की बात स्वीकार ली। इसके बाद लोगों ने आरोपी युवक को मौके पर पहुंचे कोतवाल संजय पांडे को सौंप दिया। पूछताछ में युवक ने अपना नाम गुफराम अहमद पुत्र शरीफ अहमद निवासी सुल्तानपुर पट्टी बताया। पुलिस ने कहा युवक की मानसिक हालत ठीक नहीं है। फिलहाल उसे कोतवाली में बैठाया गया है और उस पर चालान की कार्रवाई की जा रही है।

अदब के साथ पुस्तक को दफनाया

बाजपुर। धार्मिक पुस्तक की बेअदबी से नाराज पूर्व दर्जा राज्य मंत्री कदीर ठेकेदार ने इरशाद कारी से जानकारी ली। इसके बाद सभी ग्रामीण धार्मिक पुस्तक को अदब के साथ कब्रिस्तान ले गये। यहां पुस्तक को ऐसी जगह पर दफनाया गया जहां इसके ऊपर से कोई गुजर न सके।

मंदिर में तोड़फोड़ मामले में भी हुई पूछताछ

बाजपुर। मंगलवार देर रात सुल्तानपुर पट्टी के पास घोसीकलां मंदिर में हुई तोड़फोड़ के बाद हरकत में आई स्वार यूपी पुलिस ने कोतवाली पहुंचकर शक के आधार पर गुफराम से पूछताछ की। इस दौरान यूपी पुलिस अधिकारियों ने कहा मंदिर में तोड़फोड़ मामले में जांच तेज कर दी है। जल्द ही आरोपियों को पकड़ लिया जायेगा।

पुलिस-प्रशासन ने ली राहत की सांस

बाजपुर। धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ करने एवं पुस्तक जलाने के मामले में आरोपी के पकड़े जाने के बाद पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली। हालांकि, अभिसूचना इकाई और प्रशासन घटना के बाद अलर्ट हो गया था। लेकिन, गांव के ही लोगों ने मामले के बाद शांति अपनाये रखी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:People outraged by the insolence of the religious book