DA Image
27 अक्तूबर, 2020|2:41|IST

अगली स्टोरी

काशीपुर में भोजन माताओं ने किया प्रदर्शन 

default image

पंद्रह हजार रुपये न्यूनतम वेतन देने और क्वारंटाइन सेंटरों में तैनात भोजन माताओं को सुरक्षा उपलब्ध कराने समेत विभिन्न मांगों को लेकर भोजन माताओं ने प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने शीघ्र मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी। इसके बाद उन्होंने संयुक्त मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंपा।

बुधवार को प्रगतिशील भोजन माता संगठन की ब्लॉक अध्यक्ष कमलेश की अगुवाई में भोजन माताओं ने एसडीएम कोर्ट के बाहर नारेबाजी की। कहा लॉकडाउन के चलते उनके जीवन में गंभीर संकट आ गया है। उन्हें मात्र दो हजार रुपये मानदेय मिल रहा है। उन्होंने कहा भोजन माताओं को जून माह का मानदेय नहीं दिया जाता है। उसके बावजूद लॉकडाउन में उनसे काम लिया जाता रहा। क्वारंटाइन सेंटरों में भी भोजन माताओं को काम में लगाया गया है। जहां उन्हें पीपीई किट, मास्क, सेनेटाइजर कुछ भी उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है और न ही उन्हें कोई अनुदान के रूप में कोई मदद दी जा रही है। इसके चलते उन्हें परिवार का पालन-पोषण करना मुश्किल हो गया है। कहा आशा वर्कर, ऑगनबाड़ी कार्यकत्री को सरकार एक हजार रुपये की मदद दे रही है, लेकिन भोजन माताओं का कहीं भी नाम नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन संयुक्त मजिस्ट्रेट गौरव कुमार को सौंपकर 15 हजार रुपये न्यूनतम वेतन देने, क्वारंटाइन सेंटर में तैनात भोजन माताओं को सुरक्षा उपलब्ध कराने, जून माह का मानदेय देने, मंहगाई भत्ता और एक हजार रुपये सहायता राशि दिये जाने की मांग की। यहां समनदीप कौर, कमला, लक्ष्मी, दयावती, वेदवती आदि रहीं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mothers demonstrated in Kashipur