DA Image
24 जनवरी, 2021|2:44|IST

अगली स्टोरी

जसपुर पालिका की भूमि नेशनल हाईवे में नहीं होगी दर्ज

default image

जसपुर। जीजीआईसी के सामने करोड़ों रुपये की भूमि को खुर्द-बुद करने के मामले में एडीएम ने जांच के बाद खतौनी में नेशनल हाईवे के नाम दर्ज आदेश को निरस्त कर दिया है। भूमि अब पुन: नगर पालिका के नाम दर्ज करा दी गई है।

काशीपुर रोड पर श्मशान घाट के पास जीजीआईसी के सामने खसरा नंबर 302 की भूमि कृषि बंजर भूमि है। यह राज्य सरकार की सम्पत्ति है। इस खसरे के दक्षिण में नेशनल हाईवे है। नेशनल हाईवे का खसरा नंबर 357 है। आरोप है कि कुछ भूमाफिया ने मिलीभगत से गलत आख्या तैयार कर खसरा नंबर 302 को नेशनल हाईवे में समाहित होना दर्शा दिया था। जबकि यह खसरा हाईवे में समाहित नहीं हुआ और न ही हाईवे की आकृति चकबंदी नक्शे में इसे दर्शाया गया है। जांच रिपोर्ट के बाद एसएलएओ ने भूमि की श्रेणी बदलकर नेशनल हाईवे में दर्ज करने के तहसीलदार को निर्देश दिए थे। तहसीलदार ने नगरपालिका की भूमि की जगह इसे नेशनल हाईवे की भूमि कहते हुए खतौनी में चढ़ा दिया था।

इस मामले में एक माह पहले पूर्व विधायक डा.शैलेंद्र मोहन सिंघल ने सीएम से मुलाकात कर नगर पालिका की 0.093 हेक्टेयर भूमि को बचाने की मांग की थी। सीएम ने डीएम को जांच के आदेश दिए थे। डीएम के निर्देश पर एडीएम ने मामले की जांच की। प्रथम दृष्ट्या एसएलएओ ने भूमि को हाईवे में दर्ज करने के आदेश को निरस्त कर दिया। भूमि अब नगरपालिका के नाम में आ गई है। एसडीएम सुंदर सिंह ने बताया कि एसएलएओ के आदेश निरस्त हो गए हैं। भूमि अब नगरपालिका के नाम से चढ़ गई है।

इनसेट-

एसडीएम कोर्ट में नौ तारीख को होगी सुनवाई

जसपुर। मामला एसडीएम कोर्ट में भी विचाराधीन है। एसडीएम सुंदर सिंह ने बताया कि मामले में संदिग्धता होने और न्याय को देखते हुए उन्होंने अपनी रिपोर्ट को निरस्त कर नगर पालिका को सुनवाई का मौका दिया है। बताया कि सुनवाई के लिए नौ दिसंबर तारीख तय की गई है।

पूर्व विधायक ने भूमि में सब्जी मंडी बनाने की मांग की

जसपुर। पूर्व विधायक डा.शैलेंद्र मोहन सिंघल ने सीएम को पत्र भेजकर खाली भूमि पर सब्जी मंडी बनाने की मांग की है। पत्र में डॉ.सिंघल ने कहा कि हाईकोर्ट ने पूर्व में सब्जी मंडी को बाजार चौक से हटाने के लिए नगरपालिका को निर्देश दिए थे। नगर पालिका ने सब्जी मंडी को वहां से हटा दिया था। लेकिन, सब्जी, फल विक्रेताओं के लिए कोई स्थान आवंटित नहीं किया गया। इससे उन्हें फल आदि बेचने में परेशानी होती है। साथ ही नागरिक भी परेशान होते हैं। डॉ.सिंघल ने कहा कि भूमि खाली है। नगर से सटी एवं राष्ट्रीय राजमार्ग के पास होने के कारण यह सब्जी मंडी के लिए उपयुक्त है। सिंघल ने सीएम से इस भूमि को सब्जी मंडी के लिए आरक्षित करने को अफसरों को आदेश देने की मांग की है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Land of Jaspur municipality will not be registered in National Highway