ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड काशीपुरमेडिकल कैंप में समय से नहीं पहुंचे चिकित्सक, दिव्यांगों ने किया हंगामा

मेडिकल कैंप में समय से नहीं पहुंचे चिकित्सक, दिव्यांगों ने किया हंगामा

बुधवार को लगने वाले मेडिकल कैंप में को देख हंगामा कर रहे लोग शांत हुए। वहीं इसके बाद दिव्यांगों के सर्टिफिकेट बनाये...

मेडिकल कैंप में समय से नहीं पहुंचे चिकित्सक, दिव्यांगों ने किया हंगामा
हिन्दुस्तान टीम,काशीपुरWed, 04 Oct 2023 11:40 PM
ऐप पर पढ़ें

बुधवार को लगने वाले मेडिकल कैंप में चिकित्सकों ने दिव्यांगों को पांच घंटे तक इंतजार कराया। डॉक्टरों के 12 बजे तक न पहुंचने पर दिव्यांग और उनके परिजन भड़क गए। उन्होंने अस्पताल में हंगामा किया। वहीं करीब डेढ़ बजे डॉक्टरों के पहुंचने पर हंगामा शांत हुआ। इसके बाद दिव्यांगों के सर्टिफिकेट बनाए गए।
महीने के पहले बुधवार को सीएचसी परिसर में दिव्यांगों के लिए मेडिकल कैंप का आयोजन किया जाता है। इसमें काशीपुर और रुद्रपुर के चिकित्सकों की टीम आती है और दिव्यांगों की जांच करने के बाद उनको सर्टिफिकेट मुहैया करती है। बुधवार को भी इस टीम को सुबह 8 बजे अस्पताल में पहुंचना था, लेकिन नहीं पहुंची। चिकित्सकों के इंतजार में अस्पताल में दिव्यांगों की भीड़ लग गई। वहीं जब ये चिकित्सक 12 बजे तक भी नहीं पहुंचे तो दिव्यांगों और परिजनों के सब्र का बांध टूट पड़ा और इन लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। दिव्यांगों के हंगामे के बीच दोपहर करीब डेढ़ बजे दोनों डॉक्टर अस्पताल पहुंचे। इसके बाद इन्होंने करीब 14 दिव्यांगों को सर्टिफिकेट बनाकर दिए। सर्टिफिकेट बनवाने पहुंचे दिव्यांग धर्मेंद्र शर्मा ने बताया कि वह सुबह 8 बजे से अपना सर्टिफिकेट बनवाने के निए अस्पताल में खड़े हैं। डॉक्टर कब आएंगे, इसकी जानकारी किसी को नहीं दी जा रही थी। इस कारण उनके साथ वहां मौजूद अन्य लोगों को भी भारी परेशानी उठानी पड़ी है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री डॉ.धन सिंह रावत से इस मामले में कार्रवाई की मांग की है। मौके पर इदरीश, जलीस, रामेश्वर प्रसाद, सीता, आलेहसन, सीमा आदि दिव्यांगजन मौजूद रहे।

मंगलवार को तहसील दिवस में भी दिव्यांग कैंप का आयोजन किया गया था, लेकिन वहां एक भी मामला नहीं आया। बुधवार को अस्पताल में जो टीम आती है, वह टीम कोर्ट एविडेंस के कारण व्यस्त थी। इस कारण उसे अस्पताल पहुंचने में देरी हो गई।

-डॉ. पंकज माथुर, सीएमएस बाजपुर।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।