DA Image
28 अक्तूबर, 2020|5:09|IST

अगली स्टोरी

कोरोना संदिग्ध का प्रशासन की देखरेख में अंतिम संस्कार

default image

दो दिन पहले बुखार से पीड़ित एक वृद्धा की मौत हो गई थी। उसका जिलाधिकारी के आदेश पर संयुक्त मजिस्ट्रेट व तहसीलदार की मौजूदगी में नगर निगम ने सावधानी बरतते हुए अंतिम संस्कार कर दिया गया। हालांकि अभी तक मृतका की कोरोना जांच की रिपोर्ट नहीं आई है।

आईटीआई थाना क्षेत्र के गढ़वाल सभा कॉलोनी निवासी 76 वर्षीय वृद्धा पति के साथ बीती 18 मार्च को दिल्ली में बेटी के घर गए थे। बीती दो जून को दंपति दिल्ली से काशीपुर लौटे तब रेपिड रिस्पांस टीम ने उन्हें होम क्वारंटाइन कर दिया था। बीते सोमवार को वृद्धा को बुखार आने पर डॉक्टर को दिखाया था। तब डॉक्टर को यह मालूम नहीं था कि वृद्धा होम क्वारंटाइन है। ऐसे में उन्होंने सामान्य दवा दे दी। मंगलवार को वृद्धा की हालत अचानक बिगड़ी तो अस्पताल में भर्ती किया, जहां देर रात उनकी मौत हो गई। कोरोना नोडल अधिकारी डॉ.अमरजीत सिंह साहनी ने बताया जानकारी होने पर की वृद्धा होम क्वारंटाइन थीं, तब उनका शव कब्जे में लेकर सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजा गया था।उधर कोरोना नोडल अधिकारी डॉ.साहनी ने बताया गुरुवार देर रात तक रिपोर्ट नहीं आई। वहीं भीषण गर्मी के बीच शव को पोस्टमार्टम हाउस में रखे दो दिन हो गए थे। तब शुक्रवार को डीएम के आदेश पर कोरोना पॉजिटिव की संभावना जताते हुए वृद्धा का नगर निगम द्वारा स्थानीय श्मशान घाट में सावधानी बरतते हुए अंतिम संस्कार कर दिया गया। चिता को मुखाग्नि उनके बेटे ने दी। इस दौरान संयुक्त मजिस्ट्रेट गौरव सिंघल, तहसीलदार विपिन चंद्र पंत, सहायक नगर आयुक्त आलोक उनियाल, कोरोना नोडल अधिकारी डॉ.अमरजीत सिंह साहनी, एसएसआई सतीश चंद्र कापड़ी, एएसआई रमेश बिष्ट, शमशान घाट समिति के प्रबंधक विकास शर्मा, व्यापार मंडल के अध्यक्ष प्रभात साहनी, उपाध्यक्ष जतिन नरूला के अलावा वृद्धा के कुछ परिजन मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona suspect 39 s funeral under administration supervision