ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड काशीपुरशौचालय में ताला लगाने पर महिला प्रवक्ताओं में गुस्सा

शौचालय में ताला लगाने पर महिला प्रवक्ताओं में गुस्सा

काशीपुर। एक कर्मचारी के शौचालय में ताला लगाने पर महिला प्रवक्ता आक्रोशित हो गईं।...

शौचालय में ताला लगाने पर महिला प्रवक्ताओं में गुस्सा
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,काशीपुरWed, 17 Aug 2022 08:30 PM
ऐप पर पढ़ें

काशीपुर। एक कर्मचारी के शौचालय में ताला लगाने पर महिला प्रवक्ता आक्रोशित हो गईं। मामला बढ़ने पर प्राचार्य ने ताला खुलवाया। तब जाकर प्रवक्ता शौचालय जा सकीं। प्रवक्ताओं ने शौचालय में फिर से ताला लगाने पर कर्मचारी की उच्चाधिकारियों से शिकायत करने की चेतावनी दी है।

राधेहरि राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के विज्ञान विभाग में विभागाध्यक्ष को छोड़कर अन्य प्रवक्ताओं के लिए शौचालय नहीं बनाए हैं। इसके लिए महिला प्रवक्ता लंबे समय से विज्ञान विभाग में शौचालय निर्माण कराने की मांग करती आ रही हैं, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है। हाल ही में एक कर्मचारी की महाविद्यालय में तैनाती हुई है। बुधवार को कर्मचारी ने शौचालय में ताला लगा दिया। शौच के लिए गई प्रवक्ता के बार-बार कहने पर कर्मचारी ने बामुश्किल ताला खोला। कुछ देर बाद दूसरी प्राध्यापिका शौचालय गई। उन्होंने भी ताला खोलने को कहा। उक्त कर्मी ने काफी देर तक ताला नहीं खोला। इससे वह गुस्सा हो गईं। उन्होंने कर्मचारी को जमकर खरी खोटी सुनाई। इसकी शिकायत प्राचार्य से की गई। बात बढ़ती देख प्राचार्य ने स्वयं शौचालय का ताला खुलवाया। तब जाकर मामला शांत हो सका। प्राध्यापिकाओं ने कहा कि सुबह दस से शाम चार बजे तक ड्यूटी करते हैं। विज्ञान विभाग में विभागाध्यक्ष को छोड़कर अन्य प्राध्यापक व प्राध्यापिकाओं के लिए न तो शौचालय है और न ही शुद्ध पेयजल की व्यवस्था। कई वर्षों से लगातार मांग करते आ रहे हैं, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है। पानी की बोतलें घर से लेकर जाते हैं। इससे बीमार होने की संभावना बनी हुई है। पानी की भी दो मशीनें ऊपरी तल पर खराब पड़ी हुई है। उनकी मरम्मत तक नहीं कराई गई है। छात्र-छात्राओं के लिए बने शौचालय टूटे-फूटे और गंदगी से पटे हैं। इसलिए वहां नहीं जाया सकता। हररोज परेशानी का सामना करना पड़ता है। एक कर्मचारी ने ऑफिस का शौचालय होने की बात करते हुए ताला नहीं खोला। प्राचार्य के कहने पर ताला खोला गया। दो दिन तक छुट्टी है। इसके बाद भी शौचालय में ताला लगाया जाता है तो वह इसकी प्राचार्य व निदेशालय में लिखित शिकायत करेंगी। इस संबंध में प्राचार्य डॉ. चंद्र राम से फोन पर बात करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की। उनका पक्ष आने पर उसे भी प्रकाशित किया जाएगा।

epaper