DA Image
21 सितम्बर, 2020|12:03|IST

अगली स्टोरी

शव वेंटीलेटर पर रखकर जिंदा दिखाने का आरोप

default image

सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत हो गई। परिजनों ने हंगामा काटकर निजी अस्पताल के डॉक्टर पर गलत ऑपरेशन करने और शव वेंटीलेटर पर रख जीवित दिखाकर रकम मांगने का आरोप लगाया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह समझा-बुझाकर परिजनों को शांत किया। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार 21 अगस्त को ग्राम दोहरी वकील निवासी जसवंत सिंह (23) अपने पिता सूरत सिंह के साथ बाइक पर जा रहा था। इस दौरान एक बाइक की टक्कर से जसवंत घायल हो गया था। घायल को मानपुर रोड स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि यहां डॉक्टर ने जसवंत के सिर का ऑपरेशन किया और उसे वेंटिलेटर पर रख दिया। आरोप है कि डॉक्टर हर दिन उसके ठीक होने का आश्वासन देते रहे। सोमवार शाम जसवंत के भाई बलजीत ने जसवंत को रेफर करने की बात कही तो स्टाफ ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर देर रात अस्पताल पहुंचे परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया। उन्होंने डॉक्टर पर गलत ऑपरेशन करने और मौत होने के बाद शव को वेंटिलेटर पर रखकर जीवित दिखाने का आरोप लगाया। भाई बलजीत ने आरोप लगाया कि अस्पताल ने मृत घोषित करने के बाद उन्हें शव नहीं सौंपा और सीधे पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया। उधर, हंगामे की सूचना पर एसएसआई सतीश चंद्र कापड़ी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गये। उन्होंने किसी तरह परिजनों को समझाकर शांत किया। इधर, मंगलवार को पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Accused of showing alive by keeping dead body on ventilator