DA Image
1 जुलाई, 2020|6:32|IST

अगली स्टोरी

मानसून की पहली बारिश से सिडकुल की सड़कें हुई जलमग्न

default image

बुधवार सुबह मानसून की पहली बरसात ने सिडकुल प्रशासन की साफ-सफाई की पोल खोल दी है। सिडकुल से बरसात का पानी रावली महदूद में लोगों के घरों में घुस गया है। घरों में रखा रोजमर्रा के खाने का सामान और कपड़े पानी में खराब हो गए। वहीं बहादराबाद-सिडकुल हाईवे पर पानी अधिक आने से वाहनों के पहिए भी थमे रहे। इस दौरान दोनों तरफ लगभग दो किलोमीटर लंबा वाहनों का जाम लग गया। दो पहिया वाहनों में पानी घुस जाने से वह बंद हो गए। लगभग तीन फीट पानी में वाहनों को पैदल लेकर चलना पड़ा। राजा बिस्कुट पिकेट पर तैनात पुलिसकर्मी यातायात सुचारू करने के लिए जूते निकालकर पानी में उतर आए। दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद यातायात व्यवस्था बहाल हो सकी।

उधर सिडकुल क्षेत्रीय प्रबंधक गणेश रावत का कहना है कि सहायक अभियंता को कर्मचारियों के साथ मौके पर भेजा है। बरसात में किस स्थान पर नालियां बंद हुई है। उसकी रिपोर्ट मांगी है। ताकि उनकी साफ-सफाई कराई जा सके। स्थानीय लोगों को परेशानी न हो उसे तत्काल साफ-सफाई कराई जाएगी। रावली महदूद निवासी और जिला पंचायत सदस्य रोशनलाल ने कहा कि सिडकुल प्रशासन ने अपने माइनरों की सफाई नहीं कराई है। जबकि मानसून आने से पहले माइनरों को सफाई कराई जानी थी। अगर सफाई कराई होती तो सिडकुल में हुई बरसात का पानी गांव में नहीं आता। सिडकुल प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीणों के घरों में पानी आया है।

ग्रामीण भूपेंद्र सैनी, दीपक पेगवाल, रजनीश कटारिया, सतीश सैनी, तरुण कुमार, विनीत चौहान, नितिन चौहान, गौतम कुमार, आदि का कहना है कि कई बार सिडकुल ओर जिला प्रशासन की लिखित शिकायत कर चुके है। अगर प्रशासन शिकायत को गंभीरता से ले लेता तो ग्रामीणों के घरों और दुकानों में बरसात का पानी नही घुसता। उन्होंने कहा कि पहले की अपेक्षा बुधवार को पानी का स्तर ज्यादा था। उन्होंने मांग की कि यह पहली बरसात है। मानसून आ गए है। सिडकुल अपने माइनरों की साफ सफाई कराए अगर प्रशासन की लापरवाही से गांव में दोबारा बरसात का पानी घुसता है। तो ग्रामीण सिडकुल कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The first monsoon rains caused the roads of Sidkul to be submerged