DA Image
29 मार्च, 2020|1:50|IST

अगली स्टोरी

शेर सिंह राणा ने किया एससी एसटी कानून का विरोध

फूलनदेवी हत्याकांड मामले में अंतरिम जमानत पर छूटे शेर सिंह राणा ने एससी-एसटी कानून का विरोध करते हुए कहा कि सरकार को नया अध्यादेश लाकर नया कानून बनाना चाहिए। कहा कि एससी-एसटी कानून का वह विरोध करते हैं, क्योंकि इस कानून में मुकदमा दर्ज होने के बाद सीधे छह महीने जेल की हवा खानी पड़ेगी। बाद में जांच पड़ताल में अगर मामला झूठा पाया जाता है तो उसमें सामने वाले व्यक्ति का मान-सम्मान चला जाता है। शनिवार को राष्ट्रवादी समान अधिकार पदयात्रा के संयोजक शेर सिंह राणा पदयात्रा के साथ धनोरी रोड बहादराबाद स्थित एक फार्म हाउस में पहुंचे। उन्होंने कहा कि एससी-एसटी का मामला दर्ज होने के बाद पहले मामले की निष्पक्षता जांच होनी चाहिए। जांच में मामला सही पाया जाता है तो उसके बाद ही गिरफ्तारी की जाए। उन्होंने आगामी 16 दिसंबर को एससी-एसटी एक्ट के विरोध में गाजियाबाद में एकत्रित होने का आह्वान किया। यहां जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि एससी-एसटी एक्ट बने करीब 29 साल हो गए। इस कानून का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने करीब पांच माह पहले इसमें संज्ञान लिया और एक आदेश पारित किया। शेर सिंह राणा ने कहा कि वह किसी राजनीतिक पार्टी के खिलाफ नहीं है और ना ही किसी जाति धर्म के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि देश की 80 प्रतिशत जनता एससी-एसटी कानून से परेशान हैं। सभी लोग इस कानून से दहशत में हैं। कब कौन व्यक्ति आकर उन पर एससी-एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज करा कर उसको जेल भिजवा दें। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार भी इस काले कानून को हटाने में असमर्थ है। कहा कि राष्ट्रवादी समान अधिकार पदयात्रा प्रत्येक गांव में जाकर लोगों को एससी-एसटी कानून से होने वाली समस्या के बारे में जागरूक कर रही है। उन्होंने कहा कि पदयात्रा का ब्राह्मण समाज, वैश्य, व्यापार मंडल, जाट, प्रजापति, कश्यप, सैनी, मुसलमान, राजपूतों और वाल्मीकि समाज ने स्वागत किया है। इस अवसर पर प्रकाश आनंद, सत्यव्रत नंद, दाताराम चौहान, प्रमोद चौहान, शेखर, राजवीर, प्रभु मुंशी आदि ने भी संबोधन किया। इस दौरान अखिल चौहान, नीतिन चौहान, विवेक चौहान, अरविंद चौहान, केपी चौहान, अजय सिंह, रोहित चौहान, आशीष चौहान, प्रदीप चौहान, साधूराम सिंह, रजत, राहुल, हैप्पी, करन सिंह चौहान आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sher Singh Rana opposed the SC-ST Act