DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सनातन धर्म पर्वों का गुलदस्ता : विज्ञानानंद

सनातन धर्म संस्कार एवं संस्कृति का संरक्षण करने वाले पर्वों का गुलदस्ता है, जिसका प्रत्येक पुष्प सुख, समृद्धि एवं सामाजिक समरसता का संदेश देता है। यह प्रवचन सोमवार को श्रीगीता विज्ञान आश्रम के अध्यक्ष महामंडलेश्वर विज्ञानानन्द सरस्वती ने आश्रम में श्रावण मास के अंतिम सोमवार को आयोजित महा रुद्राभिषेक में आये भक्तों को संबोधित करते हुए कहे।देवाधिदेव महादेव को सृष्टि का सर्वशक्तिमान एवं सहृदयवान भगवत स्वरूप शक्ति बताते हुए कहा कि विश्व में सर्वाधिक भक्त भोलेनाथ के ही हैं क्योंकि वे सामान्य आराधना से ही प्रसन्न हो जाते हैं। उन्होंने बताया कि सावन माह में गंगा अपने तटों की स्वच्छता करती है और जीव-जन्तु और वनस्पतियों की सर्वाधिक उत्पत्ति भी इसी माह में होती है। श्रावण मासान्त आने वाले श्रावणी पर्व एवं स्वतंत्रता दिवस को विशेष संयोग बताते हुए उन्होंने कहा कि एक तरफ संपूर्ण राष्ट्र अपनी स्वतंत्रता पर गौरवान्वित होगा तो बहनें अपनी भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर सर्वमंगल की कामना करेंगी। ऐसी सर्वहितकारी व्यवस्थायें केवल सनातन धर्म एवं उसके पर्वों में ही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Sanatan Dharma Festival bouquet Vigyananda