DA Image
28 सितम्बर, 2020|9:29|IST

अगली स्टोरी

गर्भवती के कोरोना टेस्ट के बाद अस्पताल में हंगामा

default image

जिला महिला अस्पताल में एक गर्भवती महिला की कोरोना टेस्ट के बाद प्रसूताओं के तीमारदारों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया। तीमारदार अस्पताल प्रशासन से महिला को अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग करने लगे। जब अस्पताल प्रशासन ने इंकार किया तो तीमारदार सीधा नगर कोतवाली पहुंच गए।

ज्वालापुर के पांवधोई इलाके की गर्भवती को प्रसव के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। महिला कंटेनमेंट जोन की निवासी थी। आईसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार कोविड -19 टीम ने महिला के स्वैब सैंपल लिए। गुरुवार शाम को पूरी सावधानी बरतते हुए सर्जन ने महिला का ऑपरेशन किया। ऑपरेशन के बाद महिला को प्रसूता वार्ड में लाया गया। इस बीच वार्ड में भर्ती अन्य प्रसूताओं और उनके तीमारदारों को इसकी सूचना लग गई। इसके बाद प्रसूताओं के तीमारदारों ने महिला को दूसरी जगह शिफ्ट करने की मांग की। तब अस्पताल प्रशासन ने प्रसूता को प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिया। लेकिन तीमारदार प्रसूता को अस्पताल से बाहर शिफ्ट करने की मांग पर अड़े रहे।

जब अस्पताल प्रशासन ने इससे इंकार कर दिया तो तीमारदार नगर कोतवाली पहुंच गए। नगर कोतवाली प्रभारी प्रवीण कोश्यारी ने तीमारदारों को बताया कि नियमानुसार महिला के कोविड-19 स्वैब सैंपल लिए गए हैं। वह कोरोना की मरीज नहीं है। उन्होंने कहा इस स्थिति में प्रसूता को किस आधार पर दूसरी जगह शिफ्ट किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में मानवीय मूल्यों को भी बनाए रखना बेहद जरूरी है। कोतवाली प्रभारी के समझाने के बाद लोग वापस लौट गए।

:::::::

महिला कंटेनमेंट क्षेत्र की निवासी थी। इसलिए उसके स्वैब सैंपल लिए गए। कुछ तीमारदारों ने इस पर आपत्ति जताई थी। लेकिन बाद में समझाने के बाद लोग शांत हो गए। महिला को प्राइपेट वार्ड में रखा गया है।

- डॉ. शिखा जंगपांगी, सीएमएस, जिला अस्पताल

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ruckus in hospital after pregnant corona test