DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोजा इफ्तारी आपसी भाईचारे का संदेश देता है

रोजा इफ्तारी आपसी भाईचारे का संदेश देता है

मुकद्दस माह-ए-रमजान के आखिरी अशरे में रोजा इफ्तारी का दौर भी शुरू हो गया है। रोजेदारों को इफ्तारी कराना सवाब (पुण्य) का काम होता है। शुक्रवार को मोहल्ला चौहानान मेन रोड स्थित मदरसा इस्लामिया अर्शदिया में अलविदा जुमा और 25 वें रोजे के अवसर पर रोजा इफ्तारी का आयोजन किया गया।

इफ्तारी का आयोजन हकीम उमर फारूक और मौलाना वसीम अहमद आदि की ओर से कराया गया। मौलाना वसीम व उमर फारूक ने कहा कि रोजा इफ्तारी जैसे कार्यक्रम आपसी भाईचारे का संदेश देते हैं। रोजेदारों को इफ्तारी कराना बड़ा सवाब (पुण्य) होता है। रमजान बरकतों और नेमतों का महीना है। इस महीने में रोजेदारों पर अल्लाह की रहमत बरसती है। इफ्तारी में आसपास के सैकड़ो लोगों ने शिरकत की। इफ्तारी के दौरान मौलाना वसीम ने मुल्क में अमनो अमान और खुशहाली की दुआ कराई। इस दौरान राशिद अंसारी, नावेद अंसारी, तस्लीम उर्फ छोटू, फैजान अंसारी, सोयब, आमिर उर्फ असफर कुरैशी, शाहिल अब्बासी, तनवीर अब्बासी आदि उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Rosa Iftar gives a message of mutual brotherhood