DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेल में रहकर मोबाइल से नेटवर्क चला रहा सुनील राठी

कुख्यात सुनील राठी जेल में रहकर भी मोबाइल के जरिये अपना नेटवर्क चला रहा है। बाहरी लोगों से उसका संपर्क लगातार बना हुआ है। हरिद्वार जेल में राठी से मिलने आई एक महिला ने दावा किया है कि उसकी व्हाट्सएप पर लगातार राठी से बात होती रहती है। चर्चा है कि राठी ने जेल से ही तीन लोगों को मोबाइल पर धमकी भी दी है। कुख्यात सुनील राठी पहले भी जेल में बंद रहते हुए अपराध करवा चुका है। 2012 में हरिद्वार जेल में रहते हुए राठी पर रुड़की उपकारागार के जेलर नरेंद्र थापा की हत्या का आरोप लगा था। इसके बाद कुख्यात को दूसरी जेल में शिफ्ट किया गया। 2014 में रुड़की उपकारागार के बाहर गैंगवार में भी राठी का नाम खुलकर सामने आया था। इसके बाद कुख्यात को पौड़ी जेल, तिहाड़ जेल में भी भेजा गया था। इसके बाद भी राठी का मोबाइल के जरिये बाहरी दुनिया से संपर्क बना हुआ है। कुख्यात व्हाट्सएप के माध्यम से ही अपने गुर्गों से बातचीत करता है।बीते दिनों राठी के हरिद्वार जेल में रहने के बाद भी वह बाहरी लोगों से संपर्क में रहा। सहारनपुर निवासी युवक के जरिये एक महिला को मिलने के लिए जेल में बुलाया। महिला जेल पहुंची और कुख्यात से घंटों बातचीत की है। खास बात यह है कि महिला ने अपनी पर्ची में पुरुष का नाम लिखा था। इसके बावजूद भी जेल प्रशासन ने महिला को राठी के पास छोड़ दिया। घंटों तक दोनों ने बातचीत की। अधिकारियों के संज्ञान में आने पर मामले की जांच कराई गई तो महिला ने पूछताछ में व्हाट्सएप पर राठी से लगातार बात करने का खुलासा किया है। इससे पूर्व भी रुड़की जेल में रहते हुए राठी ने फेसबुक पर अपनी एक तस्वीर डाली थी। इसमें वह मोबाइल से बात कर रहा था। हरिद्वार जेल में रहते हुए भी मोबाइल से अक्सर बात करने की खबरें कई बार सामने आई हैं।महिला ने बताया राठी का नंबरमामले का खुलासा सीआईयू (एसओजी) ने किया है। सीआईयू ने शिकायत पर जांच की है। जांच की रिपोर्ट आईजी जेल को सौंपी गई है। सीआईयू ने कुख्यात से मिलने वाली महिला से पूछताछ की है। महिला ने पूछताछ में राठी का व्हाट्सएप नंबर तक बता दिया है। पहले बताया गया था पर्ची का नामनाम बदलकर मिलने पर जेल प्रशासन की लापरवाही सामने आ चुकी है। कुख्यात ने पहले ही महिला को बता दिया था कि उसे किस नाम की पर्ची बनाकर गेट पर देनी है। पुरुष के नाम पर महिला कैसे जेल में दाखिल हुई, इससे जेल प्रशासन की लापरवाही साफ जाहिर होती है।::::मामला सामने आने के बाद तत्काल हरिद्वार से भेजा पूछताछ के समय जेल अधिकारियों को इसकी भनक लग गई। देहरादून में बैठे अधिकारियों को रिपोर्ट भेजी गई तो तत्काल कुख्यात को हरिद्वार से शिफ्ट कर दिया गया। 12 मई की रात को कुख्यात को देहरादून जेल में भेज दिया गया। रात को कुख्यात को शिफ्ट करने पर भी जेल प्रशासन पर कई सवाल उठे रहे हैं। अधिकारी पर गाज गिरनी तय हरिद्वार जेल प्रशासन की लापरवाही अधिकारियों के सामने आ गई है। रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई की तैयारी हो रही है। सूत्रों के अनुसार जल्द ही अधिकारी पर गाज गिरेगी। कमरे में हुई थी मुलाकात कुख्यात की महिला से मुलाकात एक कमरे में हुई थी। अधिकारियों ने स्वयं ही कुख्यात को कमरे में भेजा था। कुछ देर बाद महिला भी कमरे में गई थी। देहरादून की जेल में हुई थी कुख्यात से दोस्तीपहली बार महिला की देहरादून में कुख्यात से मुलाकात हुई थी। महिला फर्जी पास्पोर्ट के मामले में जेल में बंद थी। तब महिला की मुलाकात जेल में ही कुख्यात राठी से हुई थी। तब से दोनों के बीच गहरी दोस्ती हो गई थी। महिला सहारनपुर की रहने वाली है। कुख्यात से महिला को मिलाने के दौरान लापरवाही की गई है। मामले की जानकारी संज्ञान में आई है। इस मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी। पीवीके प्रसाद, आईजी जेल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rathi whose phone uses in jail