DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक्सपायरी दवा जलाने पर आगबबूला हुए जिलाधिकारी

एक्सपायरी दवा जलाने पर आगबबूला हुए जिलाधिकारी

जिलाधिकारी दीपक रावत ने शुक्रवार को रोशनाबाद स्थित प्राथमिक चिकित्सा केंद्र (पीएचसी) का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान एक्सपायरी दवाओं को खुले में जलाने से नाराज डीएम का पारा चढ़ गया।

जिलाधिकारी ने एक्सपायरी दवाओं को जलाने पर प्रभारी चिकित्साधिकारी को फटकार लगाई। वहीं, बायोमेडिकल वेस्ट के वैज्ञानिक विधि से निस्तारण के निर्देश दिए। जिलाधिकारी दीपक रावत ने रोशनाबाद स्थित पीएचसी का दौरा किया। जिलाधिकारी को निरीक्षण के दौरान दवाएं खुले में जलाते हुए मिलीं। इस पर डीएम ने पर प्रभारी चिकित्साधिकारी को जमकर खरी खोटी सुनाई। जिलाधिकारी ने एनजीटी के निर्देशानुसार बायोमेडिकल वेस्ट का निस्तारण वैज्ञानिक विधि से किया जाना चाहिए। जिलाधिकारी ने आगे गलती दोहराने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी भी दी। वहीं सीएमओ डॉ. प्रेमलाल को सभी सरकारी और निजी अस्पतालों और क्लीनिकों में बायो मेडिकल वेस्ट का निस्तारण वैज्ञानिक विधि से करवाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने अस्पताल के ओपीडी और आइपीडी रजिस्टर को भी चेक किया। इसके बाद जिलाधिकारी सीएमओ कार्यालय पहुंचे। यहां जिलाधिकारी ने वैक्सीन रूम में स्टॉक रजिस्टर को जांचा। जिलाधिकारी ने सीएमओ को जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता और एक्सपायरी डेट को अनिवार्य रूप से जांचने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि एंटी रेबीज वैक्सीन के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में उपलब्ध न होने के कारण मरीजों को परेशानी होती है। जिलाधिकारी ने सभी डीएच, सीएचसी और पीएचसी में एंटी रेबीज वैक्सीन के साथ एंटी स्नेक वेनम उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि स्टॉक में उपलब्ध दवाओं का ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन रिकार्ड भी सीएमओ ऑफिस में उपलब्ध होना चाहिए। इस दौरान सहायक निदेशक सूचना मनोज कुमार श्रीवास्तव भी स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद रहे। गौरतलब है कि व्यवस्थाओं को लेकर रोशनाबाद पीएचसी हमेशा विवादों में रहता है। बीते दिनों अवकाश के दौरान अस्पताल में सुबह ही ताले लगे होने का मामला प्रकाश में आया था। जबकि अवकाश के दिन भी अस्पताल आधे दिन खुलते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Magnificent magistrates on expiry drug burn