DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मयोग का संदेश देती है भारतीय संस्कृति : बाबा रामदेव

हरिसेवा आश्रम के वार्षिकोत्सव के उपलक्ष्य में गुरुवार को संत सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे बाबा रामदेव ने कहा कि भारत की संस्कृति पुरुषार्थ पर आधारित है। निरन्तर कर्म योग का संदेश देती है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि संत हमारे देश की मिट्टी से निकली परम्परा का संवर्धन कर रहे हैं।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम की भावना भारत के ऋषिमुनियों की देन है। हम पूरे विश्व को अपना परिवार समझते हैं। भाजपा पर संतसमाज का सदैव आशीर्वाद बना रहा है। योगऋषि बाबा रामदेव ने कहा कि योग और कर्मयोग को जीवन में उतारकर कोई भी व्यक्ति जीवन की उच्चता को प्राप्त कर सकता है। संत महापुरूष समाज को सार्थक दृष्टि देते हैं। जीवन में सेवा को ही परम धर्म मानकर पतंजलि मानव मात्र के कल्याण के लिए कार्य कर रहा है। भारत माता मन्दिर के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि ने आयोजन के लिए महामंडलेश्वर स्वामी हरिचेतनानंद शुभकामनायें दीं। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने भी संतजनों से आशीर्वाद प्राप्त किया। संत सम्मेलन में अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि, महंत कमलदास, महंत दुर्गादास, महंत रघुमुनि, महंत मोहनदास विधायक स्वामी यतीश्वरानंद, आदेश चौहान सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Karma yoga gives message to Indian culture: Baba Ramdev