DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान की जयंती मनाई

महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान की जयंती मनाई

भेल क्षत्रिय समाज द्वारा वीर शिरोमणी महाराणा प्रताप और हिंदू हृदय सम्राट पृथ्वीराज चौहान की जयंती भेल सेक्टर-4 स्थित सामुदायिक केंद्र में धूमधाम से मनायी गयी। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत, विधायक आदेश चौहान, संरक्षक अरूण चौहान ने किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि संगठित होकर ही समाज के विकास में योगदान दिया जा सकता है। हरक सिंह रावत ने कहा कि क्षत्रिय समाज द्वारा वीर शिरोमणी महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान के जीवन दर्शन को समाज के समक्ष रखना प्रशंसनीय कार्य है। महाराणा प्रताप ने हमेशा ही राष्ट्रहित में अपना योगदान दिया। उनके विचारों को अधिक से अधिक प्रचारित प्रसारित करना चाहिए। युवाओं को उनके अदम्य साहस से प्रेरणा मिलती है। समाज को नई ऊर्जा व गति प्रदान करने में महाराणा प्रताप की कार्यशैली प्रासंगिक है। विधायक आदेश चौहान ने कहा कि क्षत्रिय समाज का गौरवपूर्ण इतिहास है। क्षत्रिय समाज के गौरव महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान की गौरव गाथाएं आज भी प्रेरणा दे रही हैं। उनकी वीरगाथाओं से प्रेरणा लेकर सभी को राष्ट्र कल्याण में अपना योगदान करना चाहिए। वीरों के बलिदानों से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। संरक्षक अरूण चौहान ने कहा कि महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान के दिखाए मार्ग पर चलते हुए सभी को देश के विकास में अपना योगदान करना चाहिए। समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने के प्रयास सभी को मिलजुल कर करने होंगे। बालक बालिकाओं को समान शिक्षा संगठित होकर ही किए जाने चाहिए। महिलाओं को समाज में उचित सम्मान दिया जाना जरूरी है। इस अवसर पर अध्यक्ष भारत भूषण चौहान, महामंत्री सचिन चौहान, कोषाध्यक्ष महेंद्र सिंह बिष्ट, जेएस तोमर, डा.जयपाल सिंह चौहान, पार्षद अर्जुन सिंह, ओपी चौहान, राजबीर सिंह चौहान, बलवंत सिंह चौहान, मनवीर राणा, संतोष चौहान, राजकुमार, यशपाल सिंह, ब्रजमोहन पुण्डीर, उत्तम सिंह चौहान, अरविन्द सिंह, लोकेश चौहान, अमरीश चौहान, आशीष नेगी, डा. लवकुश सिंह, डा.परवेंद्र सिंह, अमित सिंह आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Jubilee celebrations of Maharana Pratap and Prithviraj Chauhan