DA Image
24 अक्तूबर, 2020|1:56|IST

अगली स्टोरी

भारत-नेपाल के संबंध सदियों से एक : रामदेव

भारत-नेपाल के संबंध सदियों से एक : रामदेव

बाबा रामदेव ने कहा कि भारत और नेपाल के संबंध सदियों से एक हैं। दोनों की संस्कृति एक हैं। पतंजलि योगपीठ नेपाल में अपना विस्तार और अधिक करेगी। शुक्रवार को पतंजलि योगपीठ में नेपाल के उप प्रधानमंत्री उपेंद्र यादव के सम्मान समारोह में बाबा रामदेव ने यह बातें कहीं।

इससे पहले पतंजलि योगपीठ में नेपाल के उप प्रधानमंत्री का स्वागत किया किया। आचार्य बालकृष्ण और बाबा रामदेव ने उन्हें पुष्पमाला पहनाकर और अंग वस्त्र तथा रुद्राक्ष की माला भेंट कर उनका स्वागत किया। उनके सम्मान में नेपाली गीत गाए गए और पतंजलि योगपीठ परिवार की छात्राओं ने माथे में तिलक लगाकर नेपाल के उप प्रधानमंत्री का स्वागत किया।

जिन्होंने आंदोलन किया वे ही ट्रस्ट में शामिल हों : रामदेव

बाबा रामदेव ने कहा कि राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार जो ट्रस्ट बनाए,उसमें उन लोगों को प्रमुख स्थान देना चाहिए,जो राम जन्मभूमि के आंदोलन से जुड़े रहे हैं। साधु संतों को ट्रस्ट में स्थान बनाने के लिए आपस में लड़ना नहीं चाहिए।

तुलसी का पौधा रोकता है रेडिएशन

रामदेव ने तुलसी के पौधे की गुणवत्ता बताते हुए कहा कि तुलसी का पत्ता मोबाइल तथा अन्य चीजों से फैल रहे रेडिएशन के प्रभाव को रोकता है। इसलिए मोबाइल का प्रयोग करने वालों को तुलसी के पत्ते का अधिक से अधिक प्रयोग करना चाहिए और तुलसी के पौधों का अधिक से अधिक रोपण करना चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: India-Nepal relations for centuries Ramdev